home page

राजस्थान में मौजूद भारत का दूसरा सबसे बड़ा शाही महल, ठहरने के लिए 1 दिन का किराया 4 लाख रुपए

उदयपुर में मौजूद सिटी पैलेस अपनी तरह का सबसे बड़ा शाही महल माना जाता है. इस सिटी पैलेस की खूबसूरती और नक्काशी लोगों को खूब पसंद आती है. आज से लगभग 470 साल पहले महाराजा उदय सिंह II द्वारा इसकी नींव रखी गई थी.
 | 
राजस्थान में मौजूद भारत का दूसरा सबसे बड़ा शाही महल, ठहरने के लिए 1 दिन का किराया 4 लाख रुपए

Udaipur : राजस्थान में पुराने किले, राजमहल और उदयपुर शहर झीलों की नगरी से प्रसिद्ध है. भव्य इमारतों से मशहूर राजस्थान में कई ऐतिहासिक विरासत भी मौजूद है. प्रदेश का नाम देश में ट्रैवल डेस्टिनेशन में शामिल है. इसके अलावा झीलों के शहर उदयपुर में देश का सबसे बड़ा दूसरा राजमहल है.

उदयपुर में मौजूद सिटी पैलेस अपनी तरह का सबसे बड़ा शाही महल माना जाता है. इस सिटी पैलेस की खूबसूरती और नक्काशी लोगों को खूब पसंद आती है. आज से लगभग 470 साल पहले महाराजा उदय सिंह II द्वारा इसकी नींव रखी गई थी. लगभग 400 साल की अवधि के दौरान मेवाड़ क्षेत्र के 22 महाराजाओं ने इसको विस्तार दिया और कई किलों का निर्माण करवाया. अपने आप में यह एक ऐतिहासिक विरासत है.

लग्जरी होटल के रूप में तब्दील

इस पैलेस के कुछ हिस्सों में आज भी उदयपुर के राज परिवार का निवास स्थान है. सिटी पैलेस में मोती महल, शीश महल, दिलकश महल, कृष्णा विलास, शाही निवास, फतेह प्रकाश, अमर विलास, भीम विलास जैसे कई हिस्से मौजूद है. इस सिटी पैलेस के फतेह प्रकाश और शिवनिवास को राजशाही परिवार द्वारा लग्जरी होटल के रूप में तब्दील किया है.

जहां पर कोई भी व्यक्ति ठहरकर राजशाही अनुभव का लुफ्त उठा सकता है. यहां का किराया इतना है कि एक साधारण इंसान अपनी कई महीनों की कमाई में भी सिर्फ एक दिन गुजार पाएगा. होटल की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, इन पैलेस में राजशाही अनुभव का आनंद लेने का एक दिन का किराया 44 हजार से शुरू होकर 4 लाख तक है.

परंतु इस पैलेस में एक हिस्से में म्यूजियम बना हुआ है. जिसकी फीस 400 रुपए प्रति व्यक्ति है. इस म्यूजियम में महाराणाओं द्वारा इस्तेमाल की गई चीजें और किले की खूबसूरती को करीब से निहारा जा सकता है.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like