home page

उत्तर प्रदेश के इस जिले का बदला जाएगा नाम, बैठक में मिली हरी झंडी

UP News : उत्तर प्रदेश में शहरों के नाम बदलने का सिलसिला जारी है। अब एक बार फिर से नगर निगम की बैठक में गाजियाबाद का नाम बदलने की चर्चा हुई है। शहरों के नाम बदलने को लेकर कुछ लोग सहमत हैं तो कुछ योगी सरकार के इस फैसले से नाराज भी हैं। आइए जानते हैं किन जिलों का नाम बदलने की मांग चल रही है।
 | 
Name of this district of Uttar Pradesh will be changed, green signal given in the meeting

Saral Kisan : उत्तर प्रदेश में एक बार फिर जिलों का नाम बदलने को लेकर चर्चा शुरू हो गई है। अब गाजियाबाद का नाम गजनगर या फिर हरनंदी नगर करने की मांग हो रही है। गाजियाबाद के कई हिंदू संगठनों की मांग के बाद नगर निगम की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई। बीजेपी के एक पार्षद ने बैठक में इसको लेकर प्रस्‍ताव पेश किया जिस पर अन्‍य पार्षदों में भी सहमति नजर आई। 2018 में योगी सरकार ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया। इसके बाद फैजाबाद का नाम अयोध्‍या कर दिया गया। इसके बाद से यूपी के कई जिलों के नाम बदलने की मांग चल रही है।

जिला    नया नाम करने की मांग

गाजियाबाद    गजप्रस्थ, हरनंदीपुरम या दूधेश्वरनाथ नगर
अलीगढ़    हरीगढ़
लखनऊ    लक्ष्‍मणपुरी
आगरा    अग्रवन
आजमगढ़    आर्यमगढ़
सुल्‍तानपुर    कुशभवनपुर
फर्रुखाबाद    पांचाल नगर
बदायूं    वेद मऊ
फिरोजाबाद    चंद्रनगर
शाहजहांपुर    शाजीपुर
मैनपुरी    मयानपुरी
संभल    कल्कि नगर या पृथ्‍वीराज नगर
देवबंद    देववृंदपुर
गाजीपुर    विश्‍वामित्र नगर
बहराइच    महाराजा सुहेलदेव नगर

2018 से चल रही गाजियाबाद का नाम बदलने की मांग

गाजियाबाद जिले के नाम बदलने की मांग 2018 से की जा रही है। दो साल पहले 2022 में बीजेपी पार्षद संजय सिंह ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर इस संबंध में मेमोरेंडम सौंपा था। इस दौरान गाजियाबाद का नाम बदलकर गजप्रस्थ, हरनंदीपुरम या दूधेश्वरनाथ नगर किए जाने का प्रस्ताव रखा गया। संजय सिंह ने गजप्रस्थ नाम के पीछे महाभारतकालीन हस्तिनापुर राजधानी का जिक्र किया, जब यह वन्य क्षेत्र हुआ करता था और हाथी मुख्य जानवर था। इसके अलावा यहां बहने वाली हिंडन नदी के आधार पर हरनंदी नगर नाम और दूधेश्वर नाथ मंदिर की वजह से नाम रखे जाने का प्रस्ताव रखा गया।

नाम बदलने को लेकर सीएम योगी को लिखी चिट्ठी

गाजियाबाद के अलावा कुछ समय पहले ही सुभासपा के मुखिया ओमप्रकाश राजभर ने भी गाजीपुर और बहराइच का नाम बदले जाने की मांग कर दी है। उन्‍होंने इसको लेकर सीएम योगी को चिट्ठी भी लिखी है। इसमें उन्‍होंने कहा है कि गाजीपुर के पौराणिक इतिहास में महर्षि विश्‍वामित्र और बहराइच के इतिहास में महाराजा सुहेलदेव राजभर की बड़ी भूमिका रही है।इसलिए गाजीपुर का नाम विश्‍वामित्र नगर और बहराइच का नाम महाराजा सुहेलदेव नगर किया जाए। इससे पहले प्रतापगढ़ से भाजपा सांसद संगमलाल गुप्‍ता भी लखनऊ का नाम बदलने की मांग कर चुके हैं। सीएम को लिखे पत्र में उन्‍होंने यूपी की राजधानी का नाम लक्ष्‍मणपुर किए जाने की मांग की है।

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने जनता को दी सौगात, रोडवेज बसों में इन लोगों का नहीं लगेगा किराया

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like