home page

Rajasthan News : राजस्थान के इन जिलों की लगी लॉटरी, मिलेगा यमुना का जल, राजस्थान और हरियाणा में बनी सहमति

Rajasthan News : राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने कहा कि शेखावटी को पानी देने के लिए हरियाणा सरकार से समझौता किया गया है। CM भजनलाल ने बताया कि चूरू, सीकर और झुंझुनूं को हरियाणा से पानी मिलेगा।
 | 
Rajasthan News : राजस्थान के इन जिलों की लगी लॉटरी, मिलेगा यमुना का जल, राजस्थान और हरियाणा में बनी सहमति

Saral Kisan (Rajasthan Yamuna water) : राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने कहा कि शेखावटी को पानी देने के लिए हरियाणा सरकार से समझौता किया गया है। CM ने बताया कि चूरू, सीकर और झुंझुनूं को हरियाणा से पानी मिलेगा। CM भजनलाल ने कहा कि राजस्थान और हरियाणा ने DPR पर सहमति बनाई है। मुझे लगता है कि सीकर और चूरू को पानी मिलेगा। हथिनीकुंड चार पाइपों से गुजरेगा। 3 राजस्थान और हरियाणा के बॉर्डर क्षेत्र को पानी मिलेगा। यह निर्णय केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की मौजूदगी में लिया गया था। दिल्ली में ताजेवाला को लेकर एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी बैठक में उपस्थित थे।

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की पहल पर, संशोधित पीकेसी-ईआरसीपी लिंक प्रोजेक्ट से राजस्थान के कई अन्य जिलों को जल उपलब्ध कराने का एक और ऐतिहासिक फैसला लिया गया है। राजस्थान के चूरू, सीकर, झुंझुनूं और अन्य जिलों को जल्द ही हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से न केवल पेयजल, बल्कि सिंचाई के लिए भी पानी मिलेगा।

डीपीआर बनाने को लेकर सहमति

शेखावत ने कहा कि राजस्थान और हरियाणा के बीच डीपीआर बनाने पर सहमति हुई है, जिसके तहत अंडरग्राउंड पाइपलाइन से दोनों राज्यों को पानी दिया जाएगा। केंद्रीय मंत्री शेखावत ने शनिवार को नई दिल्ली में राजस्थान के मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के साथ एक बैठक में हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से राजस्थान को पानी देने की परियोजना पर चर्चा की। उनका कहना था कि राजस्थान के चूरू, सीकर, झुंझुनूं सहित कई जिलों को इससे खासकर पेयजल मिलेगा। इस डीपीआर को बनाने और पूरा करने में चार महीने का समय लगेगा। केंद्रीय जल कमीशन और अपर यमुना रीवर बोर्ड भी इसमें शामिल हैं।

गजेंद्र सिंह शेखावत यह बोले

शेखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हुआ यह समझौता ऐतिहासिक है। यह एक ठोस और स्थायी समाधान की दिशा में एक मजबूत कदम है जो दो दशक से अटके मुद्दे पर उठाया गया है। राजस्थान में जल उपलब्धता के बारे में यह निश्चित रूप से सिद्ध होगा। उनका आभार प्रधानमंत्री मोदी का था। मुख्यमंत्री भजनलाल और मुख्यमंत्री खट्टर को भी धन्यवाद दिया गया। उनका कहना था कि आपसी सहयोग की भावना ने इसे संभव बनाया है। यह एक ऐतिहासिक क्षण है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने मीडिया से बातचीत करते हुए केंद्रीय मंत्री शेखावत और हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर का आभार जताया। उनका कहना था कि कांग्रेस सरकार ने इस लंबे समय से चल रहे कार्यक्रम को नहीं देखा था।

शर्मा ने कहा कि हरियाणा और राजस्थान में भाजपा की सरकार है। तीन राजस्थानी और एक हरियाणाई पाइपलाइन है, इसलिए हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर जी ने बहुत सहयोग किया। उनका दावा था कि राजस्थान के जिलों में पेयजल की कमी दूर होगी।केंद्रीय मंत्री शेखावत की पहल पर संशोधित पीकेसी-ईआरसीपी लिंक परियोजना पर राजस्थान और मध्यप्रदेश ने समझौता कर लिया है। इस लिंक परियोजना से पूर्वी राजस्थान के 13 जिलों को जल उपलब्ध होगा।

577 एमसीएम पानी मिलेगा

राजस्थान और हरियाणा मिलकर डीपीआर बनाएंगे। जुलाई से अक्टूबर के बीच, राजस्थान के चूरू, सीकर और झुंझुनूं जिलों को अंडरग्राउंड पाइपलाइन से 577 एमसीएम पानी मिलेगा। इससे पेयजल और सिंचाई की आवश्यकताओं को पूरा किया जा सकेगा।

Also Read : पिता की प्रॉपर्टी में हिस्सा नहीं मांग सकती बेटी, आप भी जान लें कानून

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like