home page

उत्तर प्रदेश में अब से समय पर ऑफिस आएंगे सरकारी कर्मचारी, प्रदेश सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

UP News - अगर आप कर्मचारी है तो ये खबर आपके लिए है। दरअसल थोड़े ही समय पहले कर्मचारियों के लिए योगी सरकार की ओर से एक बड़ा फैसला आया है। बता दें कि अब कर्मचरियों की हाजिरी और छुट्टी का लेखा जोखा होगा जिसमें अब बायोमिट्रिक उपस्थित का शुरू होना आवश्यक हो चुका है... इस अपडेट से जुड़ी पूरी डिटेल जानने के लिए खबर को पूरा पढ़े।
 | 
From now onwards government employees will come to office on time in Uttar Pradesh, state government took this big decision

Saral Kisan, UP : उत्तर प्रदेश के आने वाले दो महीने के अंदर प्रत्येक सरकारी विभाग में बायोमिट्रिक उपस्थित होने वाली है. मानव संपदा पोर्टल का काम पूरा हो गया है. जिस पर कर्मचरियों की हाजिरी और छुट्टी का लेखा जोखा होगा जिसमें अब बायोमिट्रिक उपस्थित का शुरू होना आवश्यक हो चुका है. सचिवालय और लोक भवन में ये व्यवस्था शुरू हो चुकी है जबकि अगले करीब 2 महीने के भीतर मानव संपदा पोर्टल और बायोमेट्रिक उपस्थिति को जोड़ दिया जाएगा.

इसके जरिए कर्मचारियों की रोज की हाजिरी और छुट्टी का प्रबंध होगा तथा सब कुछ सॉफ्टवेयर आधारित होगा. ऐसे में गड़बड़ी की आशंका पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी. बिना आवेदन के छुट्टी लेने की परंपरा समाप्त होगी. जबकि जो फील्ड के कर्मचारी है उनको ऑनलाइन टूर अप्लाई करना होगा जिसमें बाकायदा फील्ड में रहने का कारण देना होगा और संबंधित कर्मचारियों का अधिकारी उसको अनुमोदित करेगा. इसके बाद में उसकी उपस्थिति दर्ज होगी. ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज न होने की दशा में या छुट्टी ना देने की स्थिति में कर्मचारियों का वेतन कटेगा.

मानव संपदा पोर्टल के माध्यम से कर्मचारियों का पूरा लेखा-जोखा

उत्तर प्रदेश सरकार के कार्मिक विभाग की ओर से मानव संपदा पोर्टल तैयार किया गया है. जिसमें कर्मचारियों की सभी जानकारियां उपलब्ध होगी. यह उसी तरह से है जैसे निजी कॉरपोरेट कंपनियों में कर्मचारियों की अपनी व्यक्तिगत ऑनलाइन फाइल होती है. जो कि पोर्टल पर उपलब्ध होती है. इस तरह से अब सरकारी विभागों में भी इस तरह मानव संपदा पोर्टल के माध्यम से कर्मचारियों का पूरा लेखा-जोखा उनकी निजी फाइल में उपलब्ध होगा और जिस पर निगरानी उनके अधिकारी की होगी.

कर्मचारियों और अधिकारियों की लापरवाही होगी कम

मानव संपदा पोर्टल पर कर्मचारियों की फाइल तो तैयार हो चुकी हैं मगर अधिकांश विभागों में उपस्थित अभी भी मैनुअल तरीके से ही की जा रही है जिससे कर्मचारियों और अधिकारियों की लापरवाही कायम है. विभागों में समय से अधिकारी और कर्मचारी नहीं आते हैं. जाड़ों की सुबह में तो हल लिया है कि कर्मचारी दोपहर 12:00 तक दफ्तर पहुंच रहे हैं.

1 दिसंबर से उपस्थित मैन्युअल खत्म हो गई

प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा की ओर से या स्पष्ट आदेश कर दिया गया है कि अब बायोमैट्रिक व्यवस्था पूरे प्रदेश के सभी सरकारी विभागों में लागू कर दी जाए. जिसमें उन्होंने मानव संपदा पोर्टल को पूरी तरह से लागू करने का आदेश किया है. बीते 1 दिसंबर से लोग भवन और उससे जुड़े अन्य सचिवालय भवनों में उपस्थित मैन्युअल खत्म हो चुकी है सभी कर्मचारी अधिकारी अपने-अपने अनुभाग में लगे हुए बायोमेट्रिक सिस्टम से ही उपस्थिति दर्ज कर रहे हैं.

इस तरह से काम करेगी बायोमैट्रिक अटेंडेंस-

हर विभाग में पहले सभी कर्मचारियों का थंब इंप्रेशन लिया जाएगा. इसके बाद में हर अनुभाग में मशीन लगा दी जाएगी. जो दफ्तर सप्ताह में 6 दिन चलते हैं उनमें सुबह 10:00 से 10:15 के बीच में कर्मचारियों को थंब इंप्रेशन देना होगा. दूसरी और जो कार्यालय सप्ताह में 5 दिन चलते हैं. उनमें सुबह 9:30 से 9:45 के बीच उपस्थिति दर्ज करानी होगी.

6 दिन के सप्ताह वाले कार्यालय में शाम को 5:00 बजे ऑफिस से आउट होने का थंब इंप्रेशन देना होगा, जबकि पांच दिनी कार्यालय में शाम को 6:00 बजे आउट का थंब इंप्रेशन देना पड़ेगा. सुबह आने के समय अगर कर्मचारी लेट होगा तो उसको शॉर्ट लीव लगानी पड़ेगी. बायोमैट्रिक अटेंडेंस न करने की दशा में कर्मचारी अनुपस्थित माना जाएगा और उसका एक दिन का वेतन कट जाएगा. सभी कर्मचारियों की छुट्टी उनके मानव संपदा पोर्टल पर दर्ज होगी और वहीं से उनको छुट्टी के लिए आवेदन करना पड़ेगा. जिस दिन में छुट्टी लेंगे उनके अधिकारी से अनुमोदित होते ही कर्मचारी के खाते से एक छुट्टी कम हो जाएगी. ऐसे में कोई घालमेल नहीं होगा.

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश के इन बिजली उपभोक्ताओं पर 31 दिसंबर से शुरू होगी कार्रवाई, अबतक 3900 करोड़ वसूली

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like