home page

Delhi NCR के इन एरिया में हर कोई खरीदना चाहता है फ्लैट, खरीदने की लगी होड़

Delhi NCR News : अब होम बायर्स का विचार बहुत बदल गया है। वह अधिक खर्च करके बड़े साइज और अधिक सुविधाओं वाले फ्लैट खरीदना चाहता है। देश के सात प्रमुख शहरों में बड़े अपार्टमेंट की बहुत मांग है। आंकड़े बताते हैं कि पहली तिमाही में दिल्ली-एनसीआर में महंगे घरों की बिक्री तीन गुना बढ़ी है।
 | 
Delhi NCR के इन एरिया में हर कोई खरीदना चाहता है फ्लैट, खरीदने की लगी होड़

The Chopal, (New Delhi) : अब घर मालिकों की सोच में बहुत बदलाव आ गया है। वह बड़े साइज और अधिक सुविधाओं वाले फ्लैट खरीदने के लिए अधिक कीमत चुकाना चाहता है। देश के सात प्रमुख शहरों में बेहतर सुविधाओं वाले बड़े अपार्टमेंट की बहुत मांग है। आंकड़े बताते हैं कि दिल्ली-एनसीआर में पहली तिमाही में महंगे घरों की बिक्री तीन गुना बढ़ी है। 50 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये के बीच कीमत वाले मध्यमवर्गीय घरों की मांग में जबरदस्त वृद्धि हुई है, जबकि घर की कीमतों की बात करें। वहीं एक करोड़ रुपये वाले घरों की बिक्री का हिस्सा भी बढ़ गया है।

दिल्ली-एनसीआर में पहले लोग 1 बीएचके या 2 बीएचके फ्लैट खरीदने के लिए उत्सुक थे, लेकिन पिछले कुछ समय से हाई रेंज वाली संपत्ति की मांग लगातार बढ़ी है। अब अधिकांश बायर्स बड़े घरों को छोटे घरों की जगह खरीदना चाहते हैं। विशेष रूप से, ग्राहक वन-बीएचके और टू-बीएचके फ्लैटों की जगह थ्री-बीएचके फ्लैटों को अधिक प्राथमिकता दे रहे हैं।

3BHK ने 2BHK को पीछे छोड़ दिया

एनारॉक की हाल ही में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली-एनसीआर के अलावा मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोलकाता, चेन्नई और पुणे में 35 प्रतिशत लोगों ने 45 से 90 लाख रुपये कीमत वाले घर खरीदने को तरजीह दी है, जबकि 24 प्रतिशत लोगों ने 90 लाख रुपये से 1.5 करोड़ रुपये कीमत वाले घर खरीदने को तरजीह दी है। इनमें फ्लैट थ्री बीएचके हैं।

इन तीन शहरों में छोटे फ्लैटों की मांग

एनारॉक कंज्यूमर सेंटीमेंट सर्वे (H1 2023) के अनुसार, मिड-रेंज और प्रीमियम घरों की मांग बढ़ी है। रिपोर्ट के अनुसार, घर खरीदने वालों में से 59 प्रतिशत 45 लाख रुपये से 1.5 करोड़ रुपये की रेंज में घर खरीदते हैं। सर्वे ने बताया कि बेंगलुरु, चेन्नई, पुणे और दिल्ली-एनसीआर में 3 बीएचके की सबसे अधिक मांग थी. कोलकाता, एमएमआर और हैदराबाद में 2 बीएचके की अधिक मांग थी। बड़े घरों की मांग, हालांकि, नहीं बदली है।

गुरुग्राम पहली पसंद बन रहा है

नयन रहेजा, रहेज डेवलपर्स, कहते हैं कि एनारॉक अध्ययन से स्पष्ट है कि वर्तमान में भारतीय होम बायर्स बड़े घरों की ओर अधिक आकर्षित हैं। दिल्ली एनसीआर में पिछले कुछ समय से 3 बीएचके और हाई रेंज वाली संपत्ति खरीदने की भारी मांग है। गुरुग्राम, खासकर, हमेशा से बड़े घरों की मांग के बाजार का केंद्र रहा है। तेजी से विकसित होने वाले गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन रोड और सोहना क्षेत्र में घरों की मांग बढ़ी है। विशेष रूप से, स्वतंत्र फ्लोर होम बॉयर्स के बीच 3 बीएचके में निवेश करना भी सबसे लोकप्रिय है।

ASEA ग्रुप के डायरेक्टर संजय शर्मा ने कहा कि हाइब्रिड कार्य सेटिंग्स और वर्क फ्रॉम होम मॉडल ने बड़े घरों की मांग को बढ़ावा दिया है क्योंकि लोग अपने काम को कुशलतापूर्वक और आराम से करने के लिए एक बड़ा घर और अधिक जगह चाहते हैं। निवेश के लिए बायर्स बड़े घरों की ओर अधिक रुख कर रहे हैं, जिससे लग्जरी रियल एस्टेट में अधिक लॉन्च देखे गए हैं। इसी विचार को डेवलपर्स भी अपना रहे हैं।

कोरोना ने कहा कि अधिक कमरे चाहिए

नवराज ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर राज सिंह ने बताया कि मेट्रो शहरों और आसपास तेजी से बढ़ रहे रियल एस्टेट क्षेत्रों में बड़े घरों की मांग है। पिछले कुछ समय से, बायर्स बड़े घरों की ओर अधिक रुख कर रहे हैं, जिससे लग्जरी रियल एस्टेट में अधिक लॉन्च देखे गए हैं।

काउंटी ग्रुप के डायरेक्टर अमित मोदी ने कहा कि कोविड-19 महामारी के बाद लोगों के जीवनशैली और कामकाज में बदलाव देखा गया है, जिससे बायर्स की सोच भी बदल गई है। होम बायर्स अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए अधिक जगह और अतिरिक्त कमरों की मांग कर रहे हैं, जबकि महामारी से पहले 2BHK की मांग सबसे अधिक थी। हाई रेंज प्रोपर्टी की मांग निश्चित रूप से आने वाले समय में बढ़ेगी।

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश के इस शहर में बनेगी खास डिजाइन से सड़कें, डमरू-त्रिशूल जैसे मॉडल बनेगी सड़कों की पहचान

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like