home page

Bank Transaction : अपने बैंक खाते से पैसे निकालने पर देना होगा ज्यादा टैक्स, जाने बदले नियम

Tax on Bank Transaction : ये खबर आपको अलर्ट करने के लिए है अगर आप किसी भी बैंक से भुगतान करते हैं। वास्तव में, आप पहले फ्री में पैसे निकाल सकते थे, लेकिन अब आपको बैंक अकाउंट से पैसे निकालने पर भी चार्ज देना पड़ सकता है।

 | 
Bank Transaction: You will have to pay more tax on withdrawing money from your bank account, know the changed rules

Bank Account Transaction: अगर आप कभी भी और किसी भी बैंक से व्यापार करते हैं, तो सावधान हो जाईए। अब तक आप फ्री में पैसे निकाल लेते थें, लेकिन अब बैंक अकाउंट से पैसे निकालने पर भी चार्ज लग सकता है। पास बुक से पैसे निकालने पर भी ट्रांजेक्शन लिमिट लागू होगा। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नकद निकासी के लिए कुछ नए नियम जारी किए हैं।

ये नियम खास तौर पर नकदी को कम करने और डिजिटल भुगतान को अधिक से अधिक करने के लिए बनाए गए हैं। वहीं, 2019 के बजट में आयकर अधिनियम की धारा 194N प्रस्तुत की गई थी। यह धारा उन लोगों या संस्थाओं पर टैक्स का प्रावधान करती है जो किसी दूसरे व्यक्ति को नकद में 20 लाख रुपये से अधिक की राशि का भुगतान करते हैं। 

हालांकि, यह नियम उन्हीं पर लागू होता हैं जिन्होंने 3 साल से Income Tax Return (ITR) फाइल नहीं किया है, ITR एक वित्तीय दस्तावेज होता है, जिसमें व्यक्ति या संस्था की आय और व्यय का विवरण होता है। उन्हें इसके लिए Tax Deducted at Source (TDS) चार्ज देना होगा। जबकि, TDS एक इंडायरेक्ट टैक्स होता है, जिसे किसी व्यक्ति या संस्था को किसी दूसरे व्यक्ति या संस्था को पेमेंट की गई राशि से काटा जाता है। यह धारा नकदी लेनदेन को कम करने और डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए है।

नए नकद निकासी नियम-

एक बार में 20 लाख रुपये से अधिक की नकद निकासी के लिए बैंकों को ग्राहकों से आधार या पैन कार्ड की जानकारी देनी होगी।

एक दिन में एक बैंक अकाउंट से 2 लाख रुपये से ज्यादा की नकद निकासी पर 1% चार्ज लगाया जाएगा।

एक महीने में 10 लाख रुपये से अधिक की नकद निकासी पर 2% चार्ज लगाया जाएगा।

75,000 रुपये से अधिक की नकद निकासी के लिए बैंकों को ग्राहकों से उनकी पहचान प्रमाणपत्र दिखाने के लिए कहने की आवश्यकता होगी।

नए नकद निकासी नियमों का प्रभाव-

व्यक्तिगत उपयोगकर्ता-

एक बार में 20 लाख रुपये से अधिक की नकद निकासी करने के लिए यूजर को आधार या पैन कार्ड की जानकारी देनी होगी। एक दिन में एक बैंक खाते से 2 लाख रुपये से अधिक की नकद निकासी पर 1% शुल्क लगाया जाएगा। एक महीने में 10 लाख रुपये से अधिक की नकद निकासी पर 2% शुल्क लगाया जाएगा। यह नियम उन लोगों पर अधिक प्रभाव डालेगा जो बड़े पैमाने पर नकदी का इस्तेमाल करते हैं, जैसे कि व्यवसाय के मालिक और किसान।

व्यापार के लिए क्या है नियम-

व्यवसायों को भी अपने बैंक खातों से नकद निकालने में अधिक सावधान रहने की जरूरत होगी। 75,000 रुपये से अधिक की नकद निकासी के लिए बैंक, कॉपरेटिव संस्था या पोस्ट ऑफिस अपने ग्राहकों को पहचान के लिए प्रमाणपत्र मांग सकती है। यह नियम उन व्यवसायों पर अधिक प्रभाव डालेगा जो नकद भुगतान स्वीकार करते हैं, जैसे कि दुकानें और होटल।

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों की बल्ले बल्ले, एमएसपी बढ़ोतरी की इस दिन होगी घोषणा

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like