home page

देश का एक ऐसा गांव जहां नहीं बनाए जाते पक्के मकान, दरवाजे पर नहीं लगाते ताला

भारत में कई गांव हैं जो अपनी विशिष्ट परंपराओं और खूबसूरती के कारण चर्चा में रहते हैं। आज हम आपको एक अनोखे गांव बताने जा रहे हैं जहां पक्के घर नहीं बनाए जाते और घरों के दरवाजों पर कभी ताला नहीं लगाया जाता। नीचे खबर में इस अद्भुत गांव के बारे में अधिक जानकारी मिलेगी- 

 | 
A village in the country where permanent houses are not built and doors are not locked.

Saral Kisan : भारत में बहुत से गांव अपनी अद्भुत खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध हैं। इन गांवों में लोगों को सुंदर वादियों के बीच समय बिताना बहुत अच्छा लगता है। हरे-भरे जंगलों, पहाड़ों, नदियों और सुंदर दृश्यों के बीच कुछ समय बिताना आपको फिर से जीवंत कर देता है। 

हालाँकि आज हम आपको एक ऐसे अनोखे गांव के बारे में बताएंगे, जहां आज भी पक्के घर नहीं हैं। यह गांव कहता है कि कोई भी पक्का घर नहीं बनाता क्योंकि यहां पक्के घरों को लेकर कई अंधविश्वास हैं। साथ ही, गाँव में कई अजीब नियम हैं। 

इस गांव का असली नाम क्या है?

देवमाली राजस्थान के अजमेर जिले में है। इस गांव में केवल ३०० परिवार रहते हैं, जो बहुत छोटा है। कुल मिलाकर करीब दो हजार लोग रहते हैं। यहाँ लावड़ा जाति के गुर्जर लोग रहते हैं। साथ ही गांव में भगवान देवनारायण का मंदिर है, जहां देवनारायण की पूजा की जाती है। गांव में बिजली आने पर तिल्ली का तेल दीपकों को जलाता है।

पक्की छत नहीं होती 

इस गांव में एक भी छत पक्की नहीं है। कच्ची छत बनाने का कोई आर्थिक कारण नहीं होने पर भी लोग इसे बनाते हैं। यहां के लोगों की भगवान देवनारायण पर गहरी आस्था है, इसलिए वे सुरक्षित रहने के लिए पक्की छत नहीं बनाते हैं।

यह स्वीकार किया जाता है कि देवनारायण इस गांव के लोगों की सेवा और भावना से बहुत खुश थे। जब वे गांव वालों से कुछ देने को कहा, तो वे कुछ नहीं मांगे। किंतु देवनारायण ने जाते-जाते कहा कि सुकून से रहना है तो पक्की छत का घर नहीं बनाना चाहिए। तब से लेकर आज तक, लोगों ने गांव की पक्की छत बनाना छोड़ दिया है।  

घरों में ताला नहीं लगाया जाता 

इस गांव में न सिर्फ कच्ची छतों का निर्माण होता है, बल्कि दरवाजों पर भी ताला नहीं लगाया जाता है। यह सुनने में अजीब लग सकता है, लेकिन इस गांव में पिछले पांच दशक से घरों में चोरी नहीं हुई है। गांव के लोगों ने आज तक कभी कोई बहस नहीं की है।

यहाँ भी श्री देवनारायण भगवान का मंदिर है, जिसे स्थानीय लोग भगवान विष्णु का अवतार मानते हैं. इस गांव की सारी जमीन भी भगवान देवनारायण के नाम पर है। गाँव के किसी भी नागरिक के नाम पर जमीन का कोई हिस्सा नहीं है।  

गांव के लोग पूरी तरह से शाकाहारी हैं  

इस गांव में लोग शराब, मांस और अंडे को नहीं खाते। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि गांव के लोग अपने भगवान से खुश नहीं हैं। साथ ही, लोग खाने में सब्जियां खाते हैं और सीमेंट का भी उपयोग नहीं करते। गलती से नॉन वेज खाने वाले व्यक्ति को सजा दी जाती है। हालाँकि, यहां पशुपालन करके लोग जीवित रहते हैं। 

दिन-रात भजन करना आम है

यहाँ लोग भगवान की पूजा करते हैं, वहीं बगड़ावत भोपा गुर्जर देवनारायण की आराधना में दिन-रात भजन गाते हैं। यह सुनने में थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन कहा जाता है कि बगड़ावत भोपा गुर्जर देवनारायण इस आस्था से खुश हैं और इससे गांव भी खुश है। कहा जाता है कि सुबह सुबह पूरा गांव नंगे पैर पूरी पहाड़ी को घूमता है और लोग शांतता और सुख की कामना करते हैं। 

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने जनता को दी सौगात, रोडवेज बसों में इन लोगों का नहीं लगेगा किराया

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like