home page

उत्तर प्रदेश में 71 किलोमीटर हाईवे का होगा चौड़ीकरण, 24 गांवों की जमीन होगी अधिग्रहण

UP News : उत्तर प्रदेश में हाईवे और सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। लोगों की सहूलियत और यातायात को आधुनिक बनाने के लिए सड़कों का चौड़ीकरण बड़ी तेजी से यूपी में हो रहा है। यूपी के इन जिलों में 73 किलोमीटर के हाईवे का चौड़ीकरण किया जाना है। हाईवे चौड़ीकरण में किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। दूसरे चरण के तहत जमीनों का अधिग्रहण होगा। 

 | 
उत्तर प्रदेश में 71 किलोमीटर हाईवे का होगा चौड़ीकरण, 24 गांवों की जमीन का होगा अधिग्रहण

Uttar Pradesh News : उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड तक हाईवे चौड़ीकरण के लिए दूसरे चरण में जमीन का अधिग्रहण होना है। बता दें कि बरेली सितारगंज हाईवे के चौड़ीकरण का निर्माण कार्य अब शुरू हो चुका है। इस हाइवे के चौड़ीकरण के लिए दूसरे चरण में जमीन का अधिग्रहण किया जाना है लेकिन अभी तक जमीन अधिग्रहण नहीं हुई है। दूसरे फेज में 38.5 किलोमीटर हाईवे चौड़ीकरण के लिए पीलीभीत और उत्तराखंड के उधम सिंह नगर जिले में जमीन का अधिग्रहण होना है।

दोनों तरफ चौड़ी होगी सड़क

अभी, बरेली से सितारगंज तक 71 किलोमीटर (या 10 मीटर चौड़ा) रोड टूलेन है। बरेली से सितारगंज इस रोड को फोरलेन बनाया जाना हैं। बता दे की  9-9 मीटर चौड़ी सड़क दोनों तरफ बनाई जानी है। पहले चरण में बरेली और पीलीभीत में राजमार्ग का 32.5 किमी का हिस्सा चौड़ीकरण करने के लिए जमीन की आवश्यकता हैं। अमरिया क्षेत्र में दूसरे फेस में सड़क चौड़ीकरण के लिए 24 गांव की जमीन अधिकरण  किया जाना है। 

24 गांव की जमीन का होगा अधिग्रहण

उत्तर प्रदेश के बरेली में 27.5 किलोमीटर में से अब तक 20 किलोमीटर की सड़क चौड़ीकरण के लिए जमीन उपलब्ध हो गई है।  बाकी अब पीलीभीत में पांच में से 3 किलोमीटर के लिए जमीन अधिग्रहण का दावा किया जा रहा है। अभी भी हाईवे चौड़ीकरण के लिए पहले चरण के तहत 9 किलोमीटर की सड़क के लिए जमीन की जरूरत है. मिली जानकारी के अनुसार बता दे कि यह जमीन अधिग्रहण जल्दी किया जाएगा। अमरिया क्षेत्र में दूसरे फेस में सड़क चौड़ीकरण के लिए 24 गांव की जमीन अधिग्रहण किया जाना है। 

दूसरे चरण के कार्य को लेकर चिंता

NHAI अधिकारियों को दूसरे चरण के कार्य पर चिंता है। दूसरे चरण में 26 किमी पीलीभीत और 12.5 किमी उत्तराखंड के ऊधमसिंहनगर का चौड़ीकरण होना हैं। इसके लिए दोनों जिलों में अब तक जमीन नहीं मिली है। एनएचएआई के परियोजना निदेशक ने पिछले दिनों रुद्रपुर और पीलीभीत में अधिकारियों से मुलाकात की थी। उनका अनुरोध था कि जल्द ही जमीन उपलब्ध कराई जाएगी। दोनों जिलों के अधिकारियों की उदासीनता के कारण जमीन अभी तक नहीं मिल सकी है।

बरेली-सितारगंज राजमार्ग की चौड़ीकरण

हाईवे के चौड़ीकरण का जिम्मा पहले एडीएम को सोपा गया था। बाद में इस सड़क चौड़ीकरण का जिम्मा सिटी मजिस्ट्रेट को दे दिया गया। सबसे ज्यादा समस्या पीलीभीत में हो रही है। ऊधमसिंह नगर की बारी सबसे बाद में आएगी। NHAI के परियोजना निदेशक बीपी पाठक ने कहा कि बरेली-सितारगंज राजमार्ग की चौड़ीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। जबकि पहले चरण के लिए आवश्यक जमीन का अधिग्रहण लगभग पूरा हो चुका है, दूसरे चरण के लिए आवश्यक जमीन नहीं मिल सकी है। पीलीभीत में जमीन अधिग्रहण नहीं होने से निर्माण में बाधा आ सकती है।

सिटी मजिस्ट्रेट विजय वर्धन तोमर ने बताया की अमरिया क्षेत्र में 24 गांवों के किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। फेज दो में 50 प्रतिशत मुआवजा दिया गया है। शेष फाइल भी तैयार है। चुनाव ने काम को धीमा कर दिया था। अधिग्रहण जल्द ही पूरा होगा।    

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like