home page

उत्तर प्रदेश के इन जिलों में बिछेगी 240 किलोमीटर की नई रेल लाइन, 53 गावों की जमीन होगी अधिग्रहण

UP Railway : यूपी प्रदेश में पिछले चार से पांच सालों के अंदर कई रेलवे प्रोजेक्ट मंजूर हुए हैं. सरकार का लक्ष्य है कि ज्यादा से ज्यादा जिलों में रेलवे लाइन बिछाई जाए. जिससे लोगों की यात्रा सुविधाजनक हो जाए. बहराइच-श्रावस्ती व बलरामपुर से होते हुए खलीलाबाद तक रेलवे लाइन बनाने का कार्य प्रस्तावित है। 

 | 
उत्तर प्रदेश के इन जिलों में बिछेगी 240 किलोमीटर की नई रेल लाइन, 53 गावों की जमीन होगी अधिग्रहण

Uttar Pradesh News : उत्तर प्रदेश में लोगों की यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए दिन प्रतिदिन प्रदेश सरकार बड़े प्रोजेक्ट लांच कर रही है। यह नई प्रस्तावित लाइन बहराइच सरस्वती व बालापुर होते हुए तक बिछाई जाएगी। इस रेलवे लाइन की लंबाई 80 किलोमीटर होगी। इस नई रेलवे लाइन के लिए केंद्र सरकार ने 650 करोड रुपए मंजूर किये हैं। 

उत्तर प्रदेश के दो जिलों के बीच 80 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन बिछाई जाएगी। इस रेलवे लाइन के लिए दो जिलों की 53 गांव की जमीन खरीदी जाएगी। इस नई रेलवे लाइन पर दो शहरों को जंक्शन का दर्जा भी मिलेगा। पिछले चार से पांच वर्षों में उत्तर प्रदेश में कई रेलवे परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है। सरकार का लक्ष्य है कि अधिक से अधिक जिलों में रेलवे लाइनें बनाई जाएं। जिससे लोगों को यात्रा करना आसान हो।

बलरामपुर और बहराइच से खलीलाबाद तक एक रेलवे लाइन बनाने का प्रस्ताव है। बलरामपुर जिले में 53 गांवों से होकर रेल पटरी बिछाने के लिए किसानों के भूमि का अधिग्रहण शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। इस प्रस्तावित रेल लाइन के लिए 6 वर्ष पहले बजट खर्च होने की संभावना जताई जा रही है। इस रेल लाइन का काम करोना महामारी के चलते शुरू ही नहीं हो सका था। इस रेलवे लाइन को सरकार ने मंजूरी साल 2018-19 में दी थी।

इस लाइन पर रेलवे स्टेशन प्रस्तावित

इस रेलवे लाइन पर बहराइच से खलीलाबाद तक 32 स्टेशन बनाए जाएंगे. बता दें कि इन 32 स्टेशनों में से 6 स्टेशनों का निर्माण हो चुका है. 10 नई रेलवे स्टेशनों का निर्माण बहराइच से शास्त्री के बीच किया जाएगा। इसमें श्रावस्ती, इकौना, बहराइच, अजतापुर, धुसवा, बरेडरा, हरिहरपुर रानी, भिनगा, विशुनापुर, रामनगर व लक्ष्मनुपर गोरपुरवा स्थल शामिल हैं। 

बलरामपुर विकास खंड का हंसुवाडोल गांव पहला हाल्ट स्टेशन होगा। झारखंडी रेलवे स्टेशन पर गोंडा-गोरखपुर रेल लाइन से बहराइच-खलीलाबद रेल लाइन को जोड़ा जाएगा। भगवतीगंज स्थित बलरामपुर रेलवे स्टेशन से उतरौला के लिए रेल लाइन का विस्तार किया जाएगा। बस्ती जाने वाले ट्रेन खगईजोत से होकर उतरौला, बस्ती व खलीलाबाद तक जाएगी।

सफर होगा आसान

बलरामपुर से बस्ती के लिए नाम मात्र की सरकारी बसें चलती हैं। बस्ती पहुंचने के लिए गोंडा से ट्रेन व बस पकड़नी पड़ती है। उतरौला क्षेत्र से बस्ती व खलीलाबाद जाने का कोई साधन नहीं है। मनकापुर जाकर ट्रेन का सहारा क्षेत्रवासियों को लेना पड़ता है। बलरामपुर से बहराइच के लिए ट्रेन की सुविधा नहीं है। ऐसे में ट्रेन का संचालन शुरू होने पर हजारों यात्रियों को लाभ मिलेगा। समय के साथ-साथ पैसे की भी बचत होगी। उतरौला निवासी राम निवास, सहजराम, इकबाल आदि का कहना है कि खलीलाबाद में उनकी रिश्तेदारी है। जहां पहुंचने में दस घंटे का सफर तय करना पड़ता है। ट्रेन का संचालन शुरू होने पर मात्र दो घंटे में ही खलीलाबाद पहुंचा जा सकेगा।

बलरामपुर व झारखंडी स्टेशन को जंक्शन

इस लाइन पर बलरामपुर व झारखंडी स्टेशन को जंक्शन का दर्जा दिया जाएगा।  सदर विकास खंड के खगईजोत से स्टेशन के बाद हाल्ट स्टेशन महेशभारी गांव में बनाया जाएगा। श्रीदत्तगंज और उतरौला में स्टेशन बनाए जाएंगे, जबकि कपौवा शेरपुर में हाल्ट स्टेशन बनाया जाएगा। रेल पटरी बिछाने के लिए चालिस फीट चौड़ाई में जमीन खरीदनी होगी। स्टेशन बनाने के लिए 100 मीटर चौड़ाई में जमीन अधिग्रहीत की जाएगी। इस रूट पर ट्रेनों से बलरामपुर, बहराइच, श्रावस्ती और खलीलाबाद के करीब 50 लाख से अधिक लोगों का सफर करने का सपना पूरा होगा। रेल सेवा शुरू होने से श्रावस्ती बौद्ध तीर्थस्थल पर देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों को आसानी से पहुंच मिलेगा। साथ ही इन सभी जिलों के लोगों को नौकरी के अवसर भी मिलेंगे।

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like