home page

सरसों कीमतों में 700 रुपए की तेजी, एमएसपी की बजाय खुली बोली में फसल बेच रहे किसान

बहरोड में बानसूर में सरकारी केंद्र खुले हुए हैं. बहरोड में सरकारी केंद्र पर 2648 किसानों ने सरसों बेचने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवाया हुआ है.
 | 
सरसों कीमतों में 700 रुपए की तेजी, एमएसपी की बजाय खुली बोली में फसल बेच रहे किसान
Alwar, Behror : सरसों के भाव नें इन दिनों रफ्तार पकड़ रखी है. हालांकि, किसानों के पास अब ज्यादा माल बचा नहीं है. कुछ किसानों के पास माल का स्टॉक पड़ा हुआ है इस तेजी का उनका फायदा मिल सकता है. सरसों में तेजी के बाद बहरोड़ में समर्थन मूल्य पर 3 दिन से सरसों की खरीद बंद है. पिछले 8 से 9 दोनों में सरसों के भाव में 500 से 700 रुपए प्रति क्विंटल भाव बढ़ गए. इसके बाद से ही किसानों ने सरकारी केंद्रों पर फसल ना बेच करें खुली बोली में बेचना शुरू कर दिया. 

मंडी व्यापारी रमेश सैनी ने बताया कि, 8 से 9 दिन पहले सरसों 5100 से 5200 प्रति क्विंटल खरीद की जा रही थी. उसे समय एमएसपी का भाव 5650 होने से किसान सरकारी केंद्रों पर अपनी फसल बेच रहा था. वही मिल मिल में सरसों की आवक कम होने से मिल संचालकों ने कीमतें बढ़ा दी.

सरसों 5800 रुपए प्रति क्विंटल

इसके बाद सरसों में उछाल आया और सरसों 5800 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से बिकने लगी. किसानों को खुली बोली में ज्यादा भाव मिलने लगे और सरकारी खरीद प्रक्रिया झंझट से बचने के लिए किसानों ने खुली बोली में सरसों को बेचना शुरू कर दिया.

सहकारी समिति प्रभारी संगीता यादव ने जानकारी दी की बहरोड़ में बानसूर में सरकारी केंद्र खुले हुए हैं. बहरोड़ में सरकारी केंद्र पर 2648 किसानों ने सरसों बेचने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवाया हुआ है. इनमें से 485 किसानों की सरसों खरीदी जा चुकी है. वही बानसूर में 1195 किसानों ने सरसों बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन करवा रखा. इनमें से 337 किसानों की सरसों खरीदी जा चुकी है.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like