home page

Cotton : कॉटन का भाव पंहुचा 8 हजार, MSP से ऊंची कीमतों पर बिक रही कपास

अगर बात की जाए महाराष्ट्र की अकोट मंडी की तो नरमे का भाव 8000 के करीब पहुंच गया है। यहां पर बीते दिन कॉटन के न्यूनतम मूल्य 7250 और अधिकतम मूल्य 7950 और औसत दाम 7900 रुपए प्रति क्विंटल रहा। इसी तरह अगर बात की जाए वर्धा जिले की सिंधी मंडी की तो वहां पर कॉटन के भाव 7625 और पुलगांव मंडी में 7635 रुपए प्रति क्विंटल रहा।
 | 
कॉटन के भाव में लगी आग, इन मंडियों में बिक रहा Msp से ऊपर

Cotton Price : महाराष्ट्र की अधिकांश मंडियों में धीरे-धीरे कॉटन का भाव बढ़ने लगा है। प्रदेश में आने वाली लगभग सभी मंडियों में नरमा समर्थन मूल्य से ऊपर बिक रहा है। अगर बात की जाए महाराष्ट्र की अकोट मंडी की तो नरमे का भाव 8000 के करीब पहुंच गया है। यहां पर बीते दिन कॉटन के न्यूनतम मूल्य 7250 और अधिकतम मूल्य 7950 और औसत दाम 7900 रुपए प्रति क्विंटल रहा। इसी तरह अगर बात की जाए वर्धा जिले की सिंधी मंडी की तो वहां पर कॉटन के भाव 7625 और पुलगांव मंडी में 7635 रुपए प्रति क्विंटल रहा। किसानों के चेहरे पर समर्थन मूल्य से ऊपर भाव जाने पर खुशी देखने को मिल रही है। 

इन दिनों कॉटन की अच्छी आवक हो रही है और फिर भी भाव बढ़ते जा रहे हैं। अकोट मंडी में बीते दिन प्रदेश में सबसे महंगा कॉटन बिका। और अगर आवक की बात की जाए तो राज्य की अन्य मंडियों से अधिक आवक यहां हुई। अगर कल यानी 24 मई की आवक की बात की जाए तो अकोला मंडी में करीबन 3130 क्विंटल, पुलगांव मंडी 2400 क्विंटल, और यवतमाल मंडी में 1800 क्विंटल कॉटन की आवक हुई। 

क्यों बढ़ रहा भाव

 भारत सरकार ने वित्त वर्ष 2023 24 में कॉटन का एमएसपी मीडियम रेशे वाली किस्म के लिए 6620 और लंबे रहने वाली किस्म के लिए 7020 रुपए प्रति क्विंटल तय किया हुआ है। महाराष्ट्र एग्रीकल्चर मार्केटिंग बोर्ड के अनुसार प्रदेश के अधिकांश मंडियों में इससे ऊपर भाव मिल रहा है। हालांकि 2021 और 2022 में किसानों को 9 से ₹12000 प्रति क्विंटल का भाव मिला था। अब 2023 में गिरावट आने के बाद 2024 में बढ़ोतरी की उम्मीद लगाई जा रही है।

 कैसे बढ़ेंगे भाव

 बाजार के जानकारों और कृषि मंत्रालय के पास से आई रिपोर्ट में अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार उत्पादन में कमी आने की संभावना है। इस साल कॉटन की पैदावार में 13.49 लाख गांठ की कमी का अनुमान है। इसी कमी के चलते बाजार में बहुत तेज रहने की संभावना है। इसी वजह से किसानों को इस साल एमएसपी से ऊपर भाव मिल रहा है। कहां जा रहा है कि गुलाबी सुंडी की वजह से कई राज्यों में कॉटन की फसल खराब हो गई थी। इसी वजह से कॉटन के भाव में बढ़ोतरी की उम्मीद लगाई जा रही है। 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like