home page

Wireless Power Supply: अब घरों तक आएगी वायरलेस बिजली, नही होगी तारों की जरुरत, नई तकनीक की हुई खोज

Power Supply Without Wire: अब बिना तार के घर-घर बिजली मिलने की कल्पना नहीं होगी। दुनिया में अब वायरलेस बिजली मिलने लगेगी। इसके परिणामस्वरूप एक्सपेरिपेंट सफल रहा है।
 | 
Wireless Power Supply: अब घरों तक आएगी वायरलेस बिजली, नही होगी तारों की जरुरत, नई तकनीक की हुई खोज

Saral Kisan (Wireless Electricity) : आपने अभी तक वायरलेस इंटरनेट के बारे में सुना होगा, जो बहुतायत से उपयोग किया जाता है। लेकिन वायरलेस बिजली भी अब उपलब्ध है। हाँ, आपने सही पढ़ा। बिना तार के बिजली सप्लाई का एक उपाय खोजा गया है। इसका भी सफल परीक्षण हुआ है। यदि ये उपाय कामयाब रहा तो लोगों को वायरलेस बिजली भी मिलने लगेगी।

अमेरिका ने इस तकनीक का सफल परीक्षण करते हुए एक किलोमीटर से अधिक दूरी पर 1.6 किलोवाट बिजली उत्पादित की है। बिना तार के बिजली सप्लाई करने की सोच लगभग एक शताब्दी पुरानी है। बिना तार के बिजली पहुंचाने के लिए दुनिया भर में कई प्रोजक्ट भी चलाए गए हैं, लेकिन अभी तक किसी भी देश को पूरी तरह से सफलता नहीं मिल सकी है। लेकिन अमेरिका ने अब बिना तार के बिजली सप्लाई करने का प्रभावी उपाय खोज लिया है।

यूएस नेवल रिसर्च लेबोरेटरी ने किया परीक्षण

मैरीलैंड में यूएस आर्मी रिसर्च फील्ड में माइक्रोवेव बीम ने 1 किलोमीटर से अधिक 1.6 किलोवाट बिजली उत्पादित की। इस अध्ययन में शामिल वैज्ञानिकों ने बताया कि इसका सिद्धांत बहुत सरल है। माइक्रोवेव बिजली बनाते हैं।  रेक्टेना एलिमेंट से निर्मित रिसीवर पर एक बीम में इसे केंद्रित किया जाता है। ये बहुत छोटा घटक है।  जिनमें आरएफ डायोड के साथ एक एक्स-बैंड डाईपोल एंटीना होता है। जब माइक्रोवेव रेक्टेना से टकराते हैं, तो एलिमेंट करंट होता है।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय जांच रहा प्रोजक्ट की व्यवहारिकता

रक्षा विभाग ने एनआरएल टीम को अडवांस कॉन्सेप्ट ग्रुप के प्रमुख क्रिस्टोफर रोडेनबेक के नेतृत्व में एक सेफ एंड कन्टिन्यूअस पावर बीमिंग-माइक्रोवेव (SCOPE-M) परियोजना बनाने का काम सौंपा। इस तरह की तकनीक का पता लगाना उनका लक्ष्य था। उनका कहना था कि प्रारंभिक संदेहों के बावजूद, माइक्रोवेव बीमिंग अविश्वसनीय रूप से प्रभावी साबित हुई है। यही कारण है कि इस तकनीक पर और भी काम किया जाएगा।

150 साल पहले निकोल टेस्ला की कल्पना

1890 के दशक में टेस्ला ने ही बिना तार के पावर सप्लाई का विचार किया था। इसके लिए उन्होंने एक ट्रांसफार्मर सर्किट, जिसे "टेस्ला कॉइल" कहा जाता था, पर भी काम किया था। जो बिजली उत्पन्न करता था, लेकिन वह साबित नहीं कर सका कि वह एक बिजली के बीम को लंबी दूरी पर नियंत्रित कर सकता है। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों ने लंबे समय से बिना तार के बिजली सप्लाई करने का प्रभावी उपाय खोज रहे हैं।

ये पढे : UP में इन 2 जिलों के फोरलेन की शुरुआत पर लगाई रोक, एक्सप्रेसवे की तरह बनेगा नया पथ

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like