home page

क्यों दिया जाता है AC को 24 डिग्री टेंपरेचर पर रखने का सुझाव, जानें ऊर्जा मंत्रालय की सलाह

Electricity Bill :पूरे भारत में इस समय बरस रहा भीषण गर्मी का कहर, उत्तर भारत भीषण गर्मी की वजह बना हुआ है भट्टी, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, और बिहार सहित  पूरे भारत चल रही भयंकर लू रही. AC और कूलर भीषण गर्मी से बचने के लिए लोगो का सहारा बने हुए हैं। 
 | 
क्यों दिया जाता है AC को 24 डिग्री टेंपरेचर पर रखने का सुझाव, जानें ऊर्जा मंत्रालय की सलाह

Saral Kisan, Electricity Bill : पूरे भारत में इस समय बरस रहा भीषण गर्मी का कहर, उत्तर भारत भीषण गर्मी की वजह बना हुआ है भट्टी, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, और बिहार सहित  पूरे भारत चल रही भयंकर लू रही. AC और कूलर भीषण गर्मी से बचने के लिए लोगो का सहारा बने हुए हैं, भीषण गर्मी के सीजन में लगभग घरों में दिन और रात AC चल रही है, जो लोग गर्मी से राहत पाने के लिए एक का इस्तेमाल कर रहे हैं उन लोगों के लिए ही यह खबर है कीमती। 

AC का तापमान रखे 24 डिग्री सेल्सियस 

लगभग घरों में दिन और रात AC चल रही है जब ज्यादा गर्मी पड़ती है तो लोग अपने AC को सबसे कम तापमान यानी 18 डिग्री पर फिक्स कर देते हैं. ये बात सही है आपका रूम एकदम ठंडा हो जाता है,परंतु आपकी AC को इसके लिए काफी मसकत करनी पड़ती है. अगर आप AC को 18 डिग्री सेल्सियस टेंपरेचर पर चलाते है तो बिजली की खपत भी ज्यादा करता है, बिजली बिल आता है अधिक. बिजली खपत कम करने के लिए AC को हमेशा 24 डिग्री सेल्सियस पर चलाने की सलाह दी जाती है।  

कम आता है बिजली बिल 

बिजली की खपत को लेकर कुछ वर्ष पहले भारतीय ऊर्जा मंत्रालय ने भी लोगों को जागरूक करने का काम किया था. बिजली  मंत्रालय ने AC का तापमान 24 डिग्री पर सलाह दी थी. परंतु लोगों के मन में यह सवाल है कि ऐसा करने से क्या होगा? क्या सही में AC का टेंपरेचर 24 डिग्री सेल्सियस रखने से बिजली की खपत कम हो जाती है. बिजली विभाग के मुताबिक यदि आप AC को 24 डिग्री सेल्सियस तापमान पर चलाते हैं तो आप गर्मी के एक सीजन में बिजली बिल में लगभग 4000-5000 रुपये की बचत कर लेते हैं. भारतीय बिजली मंत्रालय अनुसार दी गई जानकारी के मुताबिक AC का एक डिग्री टेंपरेटर बढ़ाने से बिजली खपत 6 प्रतिशत तक कम होती है. इसीलिए अगर आपकी AC का टेंपरेचर 24  डिग्री सेल्सियस रखते है तो 18 प्रतिशत तक बिजली कम खपत होगी। 

बढ़िया होती है कंप्रेसर की 

ऊर्जा मंत्रालय सलाह से पहले हमें ये समझना होगा कि AC काम कैसे करता है. AC का काम दरअसल बाहर की तुलना में कमरे के अंदर का तापमान  ठंडा रखना है. यदि आप कमरे का तापमान 24 डिग्री रखना चाहते हैं तो AC कमरे को इसी लिमिट तक ठंडा करेगा. लेकिन जब कमरे का टेंपरेचर 24 डिग्री पर पहुंच जाता है तो एसी का कंप्रेसर चलना बंद हो जाता है. यानी एसी ठंडा करना बंद कर देता है और सिर्फ उसका फैन चलता है. जब टेंपरेचर फिर बढ़ जाता है तो एसी उसे मेंटेन करने के लिए फिर से कूलिंग करने लग जाता है. लेकिन 45 डिग्री के मौसम में कमरे का टेंपरेचर 18 डिग्री करने के लिए एसी को लगातार काफी देर तक काम करते रहना पड़ता है। 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like