home page

हरियाणा के इस जिले में 20 एकड़ जमीन पर बनेगा सबसे बड़ा खेल स्टेडियम, 8 एकड़ में विकसित होगा स्पोर्ट्स कोर्ट

Haryana News : हरियाणा के इस जिले में बनेगा प्रदेश का सबसे बड़ा खेल स्टेडियम बनने जा रहा है। इसके मास्टर प्लान पर डीपीआर अब तैयार कर दी गई है। इस स्टेडियम की कार्य प्रणाली का काम मुख्यमंत्री नायब सैनी से मंजूरी मिलने के बाद शुरू हो जाएगा। 

 | 
हरियाणा के इस जिले में 20 एकड़ जमीन पर बनेगा सबसे बड़ा खेल स्टेडियम, 8 एकड़ में विकसित होगा स्पोर्ट्स कोर्ट

Haryana Sports Biggest Stadium : हरियाणा का फरीदाबाद शहर एक तरफ स्मार्ट सिटी की ओर तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन दूसरी तरफ इंटरनेशनल स्टेडियम अपनी पहचान खो चुका था। लेकिन अब इस स्टेडियम के अच्छे दिन आने वाले हैं। नाहर सिंह स्टेडियम के विस्तारीकरण के लिए डीपीआर तैयार कर ली गई है। 

8 एकड़ में होगा विस्तार

फरीदाबाद में जो मौजूदा नर्सिंग स्टेडियम अब नए रूप से आपको देखने को मिलेगा। इस स्टेडियम के विस्तारीकरण के साथ आसपास खाली पड़ी 8 एकड़ जमीन पर खेल से संबंधित कोर्ट बनाया जाएगा ताकि एक ही जगह पर अलग-अलग प्रकार के खिलाड़ी अपना खेल खेल सके। साथ ही, इस बड़े स्टेडियम से सालाना 96 करोड़ रुपये कमाने का लक्ष्य है। साथ ही स्टेडियम के आसपास साइकिल ट्रैक बनाने का भी विचार भी है।

25,000 लोगों की जगह

20 एकड़ के पुराने राजा नाहर सिंह क्रिकेट स्टेडियम में लगभग 25,000 लोगों की जगह है। निर्माण के 37 वर्षों में यहां महज आठ इंटरनैशनल मैच हुए हैं। अंतरराष्ट्रीय मानकों पर खरा नहीं उतरने के कारण यहां मैच नहीं हुए। स्टेडियम की अवस्था बहुत खराब होने के कारण इसे नए सिरे से बनाने का निर्णय लिया गया था। नगरपालिका ने 135 करोड़ रुपये का एस्टिमेट बनाया था। 

सरकार ने 115 करोड़ रुपये मंजूर किए थे। सिडनी की तरह, नगर निगम ने एक निजी संस्था से पूरा खाका बनाया। स्टेडियम बनाने का काम जनवरी 2019 में शुरू हुआ था, लेकिन अब पूरी तरह से बंद हो चुका है। फिलहाल, एफएमडीए ने स्टेडियम को अधिग्रहण कर लिया है, जिसके बाद नए सिरे से डीपीआर बनाया गया है।

एक तरफ शहर स्मार्ट सिटी व दूसरी तरफ  इंटरनेशनल स्टेडियम

एक ओर, शहर स्मार्ट सिटी बन रहा है। वहीं, एनआईटी में स्थित राजा नाहर सिंह इंटरनेशनल स्टेडियम की मान्यता अब कम होती जा रही है। स्टेडियम, जो आठ अंतरराष्ट्रीय एक दिवसीय मैचों का गवाह था, अब जीर्णोद्धार की जरूरत है। 2015 में पूर्व कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने 123 करोड़ रुपये की लागत से स्टेडियम का पुनर्निर्माण घोषित किया था। 2020 तक अत्याधुनिक तकनीकों से यह स्टेडियम तैयार होना था, लेकिन 2024 तक काम पूरा नहीं हो पाया।

ये सब बनेगा 

एफएमडीए अधिकारियों ने बताया कि नवनिर्मित डीपीआर में 28 एकड़ जमीन शामिल है। नगर निगम फिलहाल 20 एकड़ जमीन पर स्टेडियम बना रहा है। साथ ही स्टेडियम के चारों ओर आठ एकड़ की खाली जमीन पर बैडमिंटन, स्विमिंग पूल, वॉलीबॉल, रनिंग ट्रैक, बास्केटबॉल, टेनिस, फुटबॉल ग्राउंड, लॉन्ग जंप, हैमर थ्रो और जैवलिंग थ्रो कोर्ट बनाए जाएंगे। 28 एकड़ का साइकल ट्रैक भी बनाया जाएगा। कैफेटेरिया अलग होगा।

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like