home page

Supreme Court : सुप्रीम कोर्ट ने कब्जाधारी को जमीन पर अधिकार जताने के हक को लेकर दिया यह फैसला

Supreme Court Decision : सुप्रीम कोर्ट ने एक पुराने मामले में कब्जाधारी को जमीन पर अधिकार जताने का हक देते हुए कहा कि अगर मालिक जमीन मांग रहा है तो उसे यह वापस करनी होगी. इस खबर में हम इस फैसले के बारे में अधिक जानेंगे।

 | 
Supreme Court: The Supreme Court gave this decision regarding the right of the occupier to claim the land.

Supreme Court Decision  सुप्रीम कोर्ट ने एक बहुत महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। उसने व्यवस्था दी है कि कब्जाधारी व्यक्ति (एडवर्स पजेसर) 12 वर्ष या उससे अधिक समय से अपने कब्जे में रही जमीन या संपत्ति का अधिकार लेने का दावा कर सकता है। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि अगर किसी को इस जमीन से बेदखल किया जा रहा है, तो वह इसकी रक्षा कर सकता है जैसे वह उसका मूल मालिक होता है। 

यह व्यवस्था देते हुए, जस्टिस अरुण मिश्रा, एसए नजीर और एमआर शाह की पीठ ने पहले इस संबंध में शीर्ष अदालत की तीन सदस्यीय पीठ के फैसले को सही कानून नहीं माना और उसे निरस्त कर दिया। लेकिन, शीर्ष अदालत की पीठ और अनेक उच्च न्यायालयों के फैसलों को देखते हुए, उन्होंने इस मुद्दे को अंतिम निर्णय लेने के लिए बड़ी बेंच, या संविधान पीठ, को भेजा। 

2014 में दो सदस्यीय पीठ ने निर्णय दिया था कि एडवर्स कब्जाधारी व्यक्ति जमीन नहीं ले सकता। उसने यह भी कहा कि अगर मालिक जमीन चाहता है तो उसे वापस करनी होगी। साथ ही, कोर्ट ने अपने निर्णय में यह भी कहा कि सरकार एडवर्स पजेशन का कानून देखे और इसे समाप्त करने पर विचार करे। 

जस्टिस मिश्रा की पीठ ने कहा कि लिमिटेशन अधिनियम, 1963 की धारा 65 में कहा गया है कि एडवर्स कब्जाधारी व्यक्ति अपनी जमीन को बचाने के लिए मुकदमा नहीं कर सकता। ऐसा व्यक्ति कब्जा बचाने के लिए मुकदमा दायर कर सकता है और एडवर्स पर कब्जा करने का दावा कर सकता है। 

गुरुद्वारा साहिब बनाम ग्राम पंचायत श्रीथला (2014), उत्तराखंड बनाम मंदिर श्रीलक्षमी सिद्ध महाराज (2017) और धर्मपाल बनाम पंजाब वक्फ बोर्ड (2018) में न्यायालय ने निर्णय को खारिज कर दिया। कोर्ट ने निर्णय दिया कि ये फैसले सही कानून का प्रतिपादन नहीं करते हैं। 

क्या एडवर्स पजेशन है?

भूमि कानून के अनुसार, कोई व्यक्ति जमीन पर 12 साल या उससे अधिक समय तक कब्जा रखता है या उसकी देखभाल करता है और मालिक को इसके बारे में पता है लेकिन उसे कभी इसे हटाने के लिए नहीं कहता है, तो वह जमीन का मालिक होगा।

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश के 55 गावों से निकलेगी ये नई रेलवे लाइन, 2 जिले बनाए जाएंगे जंक्शन

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like