home page

Rajasthan News : 5 सालों में भर्ती हुए कर्मचारियों की होगी जांच, CM भजनलाल एक्शन मोड में

Rajasthan News : राजस्थान प्रदेश में भर्ती परीक्षाओं में बड़ी संख्या में फर्जी डिग्री और डमी अभ्यर्थियों के सामने आने के बाद अब एसओजी ने सरकार को पत्र लिखकर दोबारा सत्यापन की मांग की है।
 | 
Rajasthan News : 5 सालों में भर्ती हुए कर्मचारियों की होगी जांच, CM भजनलाल एक्शन मोड में

Saral Kisan, Rajasthan News : राजस्थान प्रदेश में भर्ती परीक्षाओं में बड़ी संख्या में फर्जी डिग्री और डमी अभ्यर्थियों के सामने आने के बाद अब एसओजी ने सरकार को पत्र लिखकर दोबारा सत्यापन की मांग की है। एसओजी ने पिछले 5 साल में हुई भर्ती परीक्षाओं को लेकर मुख्य सचिव को पत्र लिखा है। इसके बाद कार्मिक विभाग ने संबंधित विभागों को यह पत्र भेजा है। एसओजी पीटीआई भर्ती और अन्य परीक्षाओं में फर्जी डिग्री, डमी अभ्यर्थी मामलों की जांच कर रही है।

एसओजी ने दलालों की गिरफ्तारी के बाद बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद सरकार को पत्र लिखा है। अगर दोबारा सत्यापन होगा तो मुख्य रूप से डिग्रियों का सत्यापन होगा, क्योंकि इसमें भर्ती बोर्ड और संबंधित विभाग के स्तर पर बड़ी गलती हुई थी। इसके अलावा *एडमिट कार्ड से लेकर सत्यापन तक

दस्तावेजों की जांच से डमी अभ्यर्थियों का भी पता चलेगा।  पिछली भर्तियों में एसओजी ने मुख्य रूप से बाहरी राज्यों से लाई गई डिग्री सहित खेल प्रमाण पत्रों और अन्य दस्तावेजों के सत्यापन की बात कही है। एसओजी ने अब तक 30 एफआईआर दर्ज की हैं। इनमें से 24 एफआईआर डमी अभ्यर्थियों को नौकरी पर रखकर परीक्षा पास कराने से संबंधित हैं।

2019 से 2023 तक 5 भर्ती परीक्षाएं आयोजित की गईं

पिछले 5 सालों में 5546 पीटीआई, 10 हजार कंप्यूटर अनुदेशक, 9760 वरिष्ठ अध्यापक, 3 हजार सीईटी स्नातक स्तर, 6000 स्कूल व्याख्याता, 460 पुस्तकालयाध्यक्ष, 3531 सीएचओ समेत करीब 2.40 लाख भर्तियां की गई हैं। कई भर्तियों के परिणाम आने बाकी हैं। पिछले 5 सालों में पेपर लीक की कई घटनाएं हुई हैं। जिसमें लाइब्रेरियन ग्रेड थर्ड, जूनियर इंजीनियर सिविल, रीट 2021, पुलिस कांस्टेबल 2021, फॉरेस्ट गार्ड, वरिष्ठ अध्यापक ग्रुप ए, बी, सी परीक्षाओं के पेपर आउट हुए थे। 

संदिग्ध की जानकारी SOG को दें

साथ ही भर्ती किये गये कर्मचारियों के शैक्षणिक पात्रता के दस्तावेज एवं आवेदन के समय प्रस्तुत आवेदन पत्र, फोटो, हस्ताक्षर इत्यादि की भी भली-भांति जांच करवाई जाए। जांच के उपरान्त जिन कर्मचारियों की भर्ती के संबंध में सूचनाएं संदिग्ध प्रकट हो, उनकी सूचना एसओजी को उपलब्ध कराई जाये।

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like