home page

उत्तर प्रदेश में 7 दिन पहले पहुंचेगा मानसून, 20 प्रतिशत ज्यादा होगी बारिश

Uttar Pradesh Monsoon Update : उत्तर प्रदेश में जनता का तेज गर्मी से बुरा हाल है। यूपी में भीषण गर्मी के साथ तेज लू चलने से लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है। इस चिल्लाती गर्मी के बीच प्रदेश के लोगों को बड़ी सुखद खबर मिली है। इस बार प्रदेश में मानसून की दस्तक वक्त से पहले होगी। इस मानसून भारी बरसात होने की संभावना है। प्रदेश के लोगों को गर्मी से निजात मिलेगी। 

 | 
उत्तर प्रदेश में 7 दिन पहले पहुंचेगा मानसून, 20 प्रतिशत ज्यादा होगी बारिश

UP Monsoon : उत्तर प्रदेश में जनता का तेज गर्मी से बुरा हाल है। यूपी में भीषण गर्मी के साथ तेज लू चलने से लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है। इस चिल्लाती गर्मी के बीच प्रदेश के लोगों को बड़ी सुखद खबर मिली है। उत्तर प्रदेश की जनता कर इस समय तेज गर्मी के साथ भीषण लू से बुरा हाल हुआ है। प्रदेश में सूर्य देवता भी खूब तप रहे हैं। प्रदेश की जनता को अब मानसून की बारिश का बेसब्री से इंतजार है। बता दे की यूपी में हर वर्ष मानसून की औसत बारिश होती है। लेकिन इस बार यूपी में मानसून की बारिश के अच्छे संकेत मिले मिले है। 

गर्मी से मिलेगी निजात 

यूपी में इस वर्ष के मानसून को लेकर मौसम विभाग वैज्ञानिकों ने अच्छे संकेत दिए हैं। मानसून की इस बार प्रदेश में अच्छी बारिश होगी। इस साल मानसून के बदले उत्तर प्रदेश को अच्छी तरह से भिगोएंगे। मानसून की बरसात से लोगों को गर्मी से निजात मिलेगी। 

इस साल कितनी होगी प्रदेश में बारिश

मौजूदा समय में अंडमान निकोबार में बरसात का दौर शुरू हो चुका है। जानकारी के लिए बता दें कि बंगाल की खाड़ी की तरफ से हवाओं का रुख उत्तर प्रदेश की ओर होने लगा है। यूपी में मानसून की बारिश के ठोस व प्रभावी संकेत मिले हैं। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार केरल में 31मई को मानसून की एंट्री होगी। उत्तर प्रदेश में औसतन मानसून 28 से 29 जून के बीच आता है। लेकिन इस वर्ष उत्तर प्रदेश में मानसून 22 जून को आने की संभावना है। कृषि मौसम वैज्ञानिक डॉक्टर एसएन सुनील पांडे के अनुसार उत्तर प्रदेश में इस वर्ष मानसून की अच्छी बारिश होगी। पिछले वर्ष के मानसून से लगभग अबकी बार 15 से 20% ज्यादा पानी बरसने की संभावना है। 

ज्यादा बारिश से होगी परेशानियां

अगर प्रदेश में एक दिन में औसतन बारिश 60 से 70 मिमी. से ज्यादा होना उचित नहीं है. अगर लगातार 1 हफ्ते तक 20-20 मिमी. बरसात होती है तो यह किसानों से लेकर आम जनता के लिए परेशानी का सबक बन सकती है। 

उत्तर प्रदेश में हर वर्ष औसतन बारिश करीब 1000 मिमी में दर्ज की जाती है। उत्तर प्रदेश के कानपुर मंडल में हर साल सीजन की औसतन बारिश 863 मिमी. दर्ज की जाती है. किसानों को मानसून का सबसे ज्यादा इंतजार रहता है। देश में अच्छी बरसात किसानों के साथ आमजन को भी खुशी प्रदान करती है. मानसून की अच्छी बरसात का देश की अर्थव्यवस्था पर भी अच्छा असर पड़ता है। मानसून की अच्छी बरसात से किसानों को अच्छी फसल की उम्मीद होती है.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like