home page

Inverter Battery : फूल चार्ज के बाद भी नहीं चलती ज्यादा इन्वर्टर की बैटरी, ध्यान रखें ये 3 चीजें

Distilled water : यद्यपि इंवर्टर की बैटरी को अधिक देर नहीं चलने की कई वजह हो सकती हैं, लेकिन सही देखभाल की जाए तो वह कई घंटों तक आसानी से काम करेगी। यदि आपके इन्वर्टर की बैटरी आधे से एक घंटे से अधिक समय तक काम नहीं करती है। ध्यान दें इन बातों पर और समय पर लिक्विड बदलें, तो इनवर्टर की बैटरी कई घंटों तक चलेगी। आइए इसके बारे में विस्तार से जानें।
 | 
Inverter Battery: Inverter battery does not last long even after full charge, keep these 3 things in mind

Saral Kisan : यद्यपि इंवर्टर की बैटरी को अधिक देर नहीं चलने की कई वजह हो सकती हैं, लेकिन सही देखभाल की जाए तो वह कई घंटों तक आसानी से काम करेगी। यदि आपके इन्वर्टर की बैटरी आधे से एक घंटे से अधिक समय तक काम नहीं करती है, तो इसकी सही देखभाल करनी चाहिए। अनुमान के अनुसार, बैटरी का पानी और करंट सप्लाई स्थान हर महीने चेक करते रहना चाहिए। अगर पानी सामान्य नहीं रहता है, तो बैटरी एक या दो घंटे तक नहीं चलेगी। यही कारण है कि हम आपके साथ कुछ सुझाव देंगे जिन्हें आप आसानी से अपनी बैटरी की जीवनकाल को बढ़ा सकते हैं।

बैटरी का पानी लेवल चेक करें

इन्वर्टर की बैटरी अधिक देर तक नहीं चलने की वजह में सबसे पहली वजह है डिस्टिल्ड वाटर (एसिड) का सही से इस्तेमाल नहीं करना। बैटरी के लॉन्ग लाइफ के लिए एक से दो महीने के अंदर इस पानी को बदलना बहुत ज़रूरी है। इस पानी की वजह से बैटरी में मौजूद कार्बन प्लेट्स जल्दी खराब नहीं होते हैं, जिसकी वजह से एक नहीं बल्कि कई घंटों तक बैटरी चलती रहती है। ध्यान रहें बैटरी में डिस्टिल्ड वाटर अधिक डालना भी सही नहीं होता है।

न करें ये गलतियां इन्वर्टर के साथ

अगर आपको इन्वर्टर के बारे में अधिक जानकारी नहीं तो फिर आपको बैटरी के साथ छेड़छाड़ करने से बचना चाहिए। कई लोग ऐसे होते हैं, जो नार्मल पानी को गरम करके बैटरी के अंदर डाल देते हैं। ऐसे में एक घंटा क्या आधे घंटे भी बैटरी नहीं चलती है। कई लोग ऐसे होते है कि लाइट नहीं रहने पर मिक्सर, आयरन आदि चीजों का इस्तेमाल इन्वर्टर से ही करने लगते हैं। (सोलर इन्वर्टर की देखभाल के टिप्स) आपको बता दें कि इन चीजों के इस्तेमाल से भी बैटरी पर बुरा असर पड़ता है। इन्वर्टर को दीवार से एकदम करीब ना रखकर कुछ इंच की दूरी पर ही रखें। अधिक लोड देने से बचे।

पहुंचें मैकेनिक के पास

खुद से किसी भी चीज का मास्टर बनान कभी-कभी नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसलिए, अगर इन्वर्टर की बैटरी आधे-एक घंटे से अधिक नहीं चलती है, तो उसे ठीक करने के लिए आपको मैकेनिक के पास ज़रूर पहुंचना चाहिए। कई बार लाइट उप-डाउन करने की वजह बैटरी की कार्बन प्लेट पर बुरा असर पड़ता है, जिकसी वजह से बैटरी जल्दी ही खत्म हो जाती है। एक बैटरी में तक़रीबन 10-12 कार्बन प्लेट होते हैं। अगर बैटरी में मौजूद एक भी प्लेट ख़राब होता है तो आपको मैकेनिक के पास लेकर ज़रूर जाना चाहिए।

इन बातों का भी रखें ध्यान

लाइट उप-डाउन के दौरान इन्वर्टर को बंद करके ही रखें।
बैटरी में मौजूद टर्मिनल (जहां से बिजली सप्लाई होती है) की नियमित सफाई करें।
इसके अलावा आप बैटरी को जमीन पर न रखकर किसी लकड़ी, पत्थर या फिर टेबल पर रखें, क्योंकि नमी की वजह से भी बैटरी पर बुरा असर पड़ता है।
अगर आप घर से कुछ दिनों के लिए बाहर जा रहे हैं तो इन्वर्टर को बंद करके ही निकले।

ये पढ़ें : Bihar में बुलेट ट्रेन के लिए बनेंगे ये 4 स्टेशन, जांच के बाद यहां होगा भूमि अधिग्रहण

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like