home page

बाजार में बिक रही नकली सरसों, तेल की मात्रा भी 43% से ऊपर

Mustard Seeds : आजकल हम नकली घी, दूध, खोया, पनीर के बारे में सुनते रहते हैं। लेकिन आज हम आपको नकली सरसों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। राजस्थान और मध्य प्रदेश के कई इलाकों में नकली सरसों बेचने के मामले सामने आए हैं। 

 | 
बाजार में बिक रही नकली सरसों, तेल की मात्रा भी 43% से ऊपर

Rajsthan Mustard News : राजस्थान के बीकानेर में एक पिकअप गाड़ी नकली सरसों भरकर फैक्ट्री में पहुंची। फैक्ट्री मालिक ने जब शक के आधार पर सरसों की बोरी तुलवाई तो वह है, वजन से कहीं अधिक थी। जब इस सरसों में तेल की मात्रा का परीक्षण किया गया तो मात्रा 42% पाई गई। जब सरसों के दोनों को पानी में डाला गया, तो वह पानी के साथ धूल गए। 

राजस्थान की घटना 

हाल ही में एक मामला राजस्थान के टोंक जिले से भी आया है, जहां काली मिट्टी से बनाई गई सरसों का ट्रक पकड़ा गया। इस सरसों का जब लैब टेस्ट करवाया गया तो तेल की मात्रा 38.9% मिली। पुलिस ने सरसों का ट्रक कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है। इसी के साथ 1 अप्रैल को भरतपुर जिले की वैर कृषि उपज मंडी में भी 17 कट्टे नकली सरसों मंडी में बिकने आई।  

इस तरह लगाएं पता 

मंडे में कुछ लोग नकली सरसों बेचने के लिए आए थे। और सरसों की तुलवाई के लिए दुकान के सामने उतारी गई। जब सरसों में तेल की जांच की गई तो पता चला कि इसमें 43 फ़ीसदी तेल की मात्रा है। लेकिन तुलाई के समय अचानक खुली पड़ी सरसों में पानी गिर जाता है। जिससे सरसों के दाने पानी में घुल जाते हैं। इसके बाद कुछ दाने पानी में डुबाए गए तो पता चला कि यह सरसों नकली है। 

सरसों की खरीद कर रहे व्यापारियों का कहना है कि देश में नकली सरसों का मिलना बड़ा चिंता का विषय है। इस सरसों में केमिकल वगैरा का प्रयोग करके तेल की मात्रा सही दिखाने और रंग सही लाने के लिए कई चीजों का प्रयोग किया जाता है। नकली सरसों वगैरा असली में मिल जाएगी, तो इससे निकला तेल लोगों के लिए खतरनाक होगा। क्योंकि सरसों के तेल का करीबन उपयोग घरों में खाना बनाने के लिए होता है। 
 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like