home page

Facts : वकील का कोट आखिर काला ही क्यू होता हैं, इतिहास हैं दिलचस्प

Black Coat : भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के वकील काला कोट पहनकर ही अदालत पहुंचते हैं.अपने चैंबर में भी वे इसी रंग का कोट या गाउन पहनते हैं. क्या आप जानते हैं इसके पीछे क्या कारण होता है? आइए जानते हैं.

 | 
Facts: Why is a lawyer's coat black? History is interesting.

Lawyers Black Coat: आपने कोर्ट में वकील को काला कोट (Black Coat) पहनते देखा भी होगा। इसके अतिरिक्त, वे अपने कार्यालय में काले कोट पहनकर ही बैठते भी हैं। क्या आप जानते हैं कि वकील आखिर क्यों काले रंग का कोट पहनते हैं? यह पहली बार कब शुरू हुआ? क्या इसका भी कोई इतिहास है?  आइए जानते हैं..

वकील क्यों पहनते हैं काला कोट 

वकील काला कोट पहनने के कई वजह भी हैं। इतिहास यह बताता है कि 1694 में क्वीन मैरी चेचक से मर गई। क्वीन के निधन के शोक में, राजा विलियम्सन ने आदेश दिया कि कोर्ट के सभी जज और वकील काले रंग के गाउन पहनकर ही जाएं। यह भी कहा जाता है कि 1637 में वकीलों के लिए काले रंग की ड्रेस का प्रस्ताव रखा गया था। इसका कारण था कि वकील दूसरों से अलग दिख सकें। इंग्लैंड के किंग चार्ल्स द्वितीय के निधन पर न्यायाधीशों को काले रंग का कोट पहनने का आदेश दिया गया था 

भारत में काले कोट की परंपरा

ब्रिटिश राज में जज और वकील ब्लैक गाउन (Black Gown) और सूट पहना करते थे लेकिन भारत में आजादी के बाद 1965 में इसे अनिवार्य किया गया था. अनुशासन के कारण ड्रेस कोड का इस्तेमाल किया गया. काले कोट को अनुशासन और आत्मविश्वास का साइन भी माना जाता है. भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के वकील ब्लैक कोट ही पहनते हैं.

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश में यहां तक बनेगा 16 किमी का नया एक्सप्रेसवे, बिछेगी रेलवे लाइन, लॉजिस्टिक वेयरहाऊसिंग, कार्गो के लिए फायदा

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like