home page

Delhi NCR Metro : दिल्ली नोएडा वालों की हुई मौज, इस मेट्रो लाइन पर 1800 करोड़ की लागत से बनेगे 8 स्टेशन

Noida Metro Rail Corporation : यह मार्ग एक्वा लाइन का विस्तार होगा। दिल्ली-नोएडा से ग्रेटर नोएडा जाने वालों को इस लाइन पर मेट्रो चलाना और अधिक सुविधाजनक होगा।

 | 
Delhi NCR Metro: Delhi Noida residents are happy, 8 stations will be built on this metro line at a cost of Rs 1800 crore.

Noida Metro Rail Corporation : यात्रियों को नोएडा मेट्रो (NMRC) ने बड़ी राहत दी है। क्वा लाइन का नवीनतम रूट बड़ा अपडेट मिला है। सरकार एक्वा लाइन के मार्ग पर आठ नए स्टेशन 1800 करोड़ रुपये में बनाने वाली है। इससे लोगों को दिल्ली से नोएडा जाना आसान होगा। 

कहां से कहां तक चलेगी मेट्रो

नोएडा मेट्रो सेक्टर-142 से सेक्टर-38ए बॉटनिकल गार्डन तक चलेगी। डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) अगले महीने तैयार होने की उम्मीद है। Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) इसे बना रहा है। इस लाइन पर मेट्रो चलने से नोएडा के चारों ओर मेट्रो चलेगी।

यात्रियों को होगा बड़ा फायदा 

यह एक्वा लाइन के विस्तार का रास्ता होगा। दिल्ली-नोएडा से ग्रेटर नोएडा जाने वालों को इस लाइन पर मेट्रो चलाना और अधिक सुविधाजनक होगा। वर्तमान में नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (एनएमआरसी) एक्वा लाइन को चलाता है। मेट्रो सेक्टर-51 से शुरू होकर ग्रेटर नोएडा डिपो तक जाती है। दिल्ली से ब्लू लाइन पर आने वाले लोगों को सेक्टर-52 स्टेशन पर उतरना होगा। बॉटनिकल गार्डन से एक्वा लाइन के सेक्टर-142 तक एक नई मेट्रो लाइन बनाई जाएगी। बॉटनिकल गार्डन पर ब्लू और मजेंटा लाइन के स्टेशन हैं जो नोएडा-दिल्ली को जोड़ते हैं। अब यह एक्वा लाइन का तीसरा स्टेशन होगा।

पूरे रूट का प्लान

DMRC ने यह सर्वे रिपोर्ट लगभग पांच महीने पहले बनाई है। NMRC अधिकारियों को मौखिक रूप से पूरे रूट का प्लान भी भेजा गया है, बस लिखित डीपीआर मिलना बाकी है। अधिकारियों ने कहा कि इस लाइन पर आठ स्टेशन बनाए जाएंगे, जिनके स्थान लगभग निर्धारित हो चुके हैं। मेट्रो स्टेशन सेक्टर-96 में नोएडा प्राधिकरण के नए प्रशासनिक कार्यालय के सामने बनाया जाएगा।

NMRC बोर्ड की बैठक

DMRC से डीपीआर मिलने के बाद, नोएडा-ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण इसे अपने-अपने बोर्ड में रखेगा। इसे वहां से मंजूरी मिलने के बाद एनएमआरसी की बोर्ड बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा। इसके बाद मंजूरी के लिए राज्य को भेजा जाएगा। शासन के बाद फाइल को केंद्र सरकार को मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

कितने करोड़ खर्च होंगे?

इस मेट्रो लाइन को बनाने में लगभग 1800 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। 20 प्रतिशत राशि केंद्रीय सरकार और 20 प्रतिशत राज्य सरकार देगी। एक स्टेशन बनाने में लगभग 20 करोड़ रुपये खर्च होंगे। सेक्टर-44 के मेट्रो स्टेशन (बॉटनिकल गार्डन को छोड़कर) एक्सप्रेसवे के पास सेक्टर रोड पर बनाए जाएंगे।

ये पढ़ें : उत्तर प्रदेश में यहां तक बनेगा 16 किमी का नया एक्सप्रेसवे, बिछेगी रेलवे लाइन, लॉजिस्टिक वेयरहाऊसिंग, कार्गो के लिए फायदा

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like