home page

महंगे घरों की बिक्री में आया उछाल, आखिर क्यों आई सस्ते घरों की खरीद में गिरावट

Affordable Homes : देश में महंगे फ्लैट खरीदने का सिलसिला बढ़ गया है। इसी वजह से बिल्डरों ने अब लग्जरी फ्लैट बनाना शुरू कर दिया है। दरअसल बता देंगे जनवरी से मार्च तक सस्ते फ्लैट की बिक्री में गिरावट देखने को मिली है। 

 | 
महंगे घरों की बिक्री में आया उछाल, आखिर क्यों आई सस्ते घरों की खरीद में गिरावट

Property News latest Update : देश के सबसे बड़े 8 शहरों में 60 लाख रुपए से सस्ते घरों की बिक्री में गिरावट देखने को मिल रही है। सस्ते करो की बिक्री में गिरावट की सबसे बड़ी वजह जमीन और निर्माण की लागत बढ़ना है। जिससे सस्ते घर बेचकर लाभ कमाना मुश्किल हो गया है। 

कितनी आई गिरावट

जारी किए गए आंकड़े के अनुसार देश के आठ बड़े शहरों में सस्ते घरों की बिक्री में गिरावट देखने कोमिली है। जनवरी से मार्च तक यह घटकर 33420 रह गई है, जो इसी समय पिछले साल 53818 थी। साल 2023 के मुकाबले इस साल मूल्य श्रेणी की नई आपूर्ति में 20% गिरावट देखने को मिली है। गिरावट का रुझान इस साल की पहली तिमाही में ही शुरू हो गया। 

देश के आठ बड़े शहरों में सस्ते घरों की संख्या में गिरावट देखने को मिल रही है। बीते साल 2023 में ₹60 लाख से कम कीमत के 1,79,103 घर दिखाए गए। साल 2022 के आंकड़ों अनुसार यह संख्या 2,24,141 से 20% कम हुई है। 

लोगों का बढ़ा बड़े मकान की ओर रुझान 

रियल एस्टेट में दिन रात बढ़ रही किंतु के साथ-साथ निर्माण कार्य में लागत की वजह से अब सस्ते घरों को रियल एस्टेट कंपनियां फायदे का सौदा नहीं मान रही है। कोरोना महामारी के बाद लोगों की बड़े घरों की मांग बढ़ गई है और साथ में इन पर अच्छा मार्जन मिलता है। 

चलिए देखें आंकड़े 

प्रॉपइक्विटी के जारी आंकड़ों के अनुसार जनवरी और मार्च महीना के दौरान मुंबई में 60 लाख से कम कीमत वाले घरों की नई आपूर्ति घटकर 15202 रह गई है। यही अगर 1 साल पहले की बात की जाए तो यह संख्या 22642 थी। इसी प्रकार पुणे में 12538 से घटकर 6836 रह गई है। अहमदाबाद की बात करें तो 5971 से घटकर 5504 रह गई है। हैदराबाद में यह संख्या 2319 से घटकर 2116 रह गई है। चेन्नई में यह संख्या 3862 से घटकर कर 501 रह गई है। वहीं अगर दिल्ली एनसीआर की बात करें तो सस्ते करो की आपूर्ति बढ़कर 400 हो गई हैं। 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like