home page

कहीं आप तो नहीं खा रहे मिलावट वाला सरसों का तेल, इन टिप्स से हो जाएगा साफ़

Mustard Oil Benefits :देश के करीबन घरों में खाना बनाने के लिए सरसों के तेल का इस्तेमाल होता है। हमारे घरों में बनने वाले पकोड़े सब्जी और कई तरह के और व्यंजन जो सरसों के तेल से बनाए जाते हैं।
 | 
कहीं आप तो नहीं खा रहे मिलावट वाला सरसों का तेल, इन टिप्स से हो जाएगा साफ़

Mustard Oil Benefits : देश के करीबन घरों में खाना बनाने के लिए सरसों के तेल का इस्तेमाल होता है। हमारे घरों में बनने वाले पकोड़े सब्जी और कई तरह के और व्यंजन जो सरसों के तेल से बनाए जाते हैं। देसी घी के बाद रसोई में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सरसों का तेल होता है। अगर हमें शुद्ध सरसों का तेल मिल जाए तो यह हमारी त्वचा के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए अमृत का काम करता है। आजकल मार्केट में मिलने वाला सरसों का तेल मिलावट के साथ ज्यादा आने लगा है। आज हम आपको सरसों के तेल में होने वाली मिलावट को जानने के तरीके और इससे जुड़े फायदे बताएंगे। 

सरसों तेल के शानदार लाभ 

सरसों के तेल को कई देशों में खाने के लिए बैन किया गया है। सरसों के तेल का इन देशों में मुख्यतः मसाज ऑयल सिरम या फिर हेयर ट्रीटमेंट के लिए किया जाता है। लेकिन भारत में इसे खाने के लिए फायदेमंद माना जाता है और इसे खाने पर त्वचा, बालों और दर्द जैसी समस्याओं में भी लाभ मिलता है। आज हम आपको इसके फायदे बताते हैं। 

इम्युनिटी और स्किन के लिए फायदेमंद 

सरसों का तेल हमारी इम्यूनिटी को बूस्ट करने के लिए और शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए सबसे फायदेमंद माना जाता है। सरसों के तेल में विटामिन ई की मात्रा अधिक होने के कारण यह स्किन को नमी देता है, जिससे सर्दियों में ड्राइनेस नहीं आती। 

वजन कम और दर्द में राहत 

सरसों के तेल का सही तरीके से उपयोग किया जाए, तो यह वजन घटाने में काफी लाभकारी होता है। इसमें उपस्थित विटामिन जैसे थायमिन फलेट और नियासिन शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है, जिससे वजह कम होता है। सरसों के तेल से मालिश करने पर हमें जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है। इसे गुनगुना गर्म करके कान में डालने से कान के दर्द से आराम मिलता है। 

दांत के दर्द और भूख बढ़ाने में कारगर 

अगर आपके दांत में दर्द रहता है तो सरसों के तेल से मालिश करने पर यह तुरंत दूर हो जाएगा। इसके साथ-साथ यह है भूख बढ़ाने बेबी कारगर साबित होता है। सरसों के तेल का इस्तेमाल करके इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। 

कैसे लगाएं मिलावट का पता 

आजकल सरसों के तेल की लोकप्रियता बढ़ाने के कारण इसमें मिलावट भी बढ़ गई है। इसमें मिलावट का पता लगाने के लिए आपको इन टिप्स का पालन करना होगा। 

लेबल और FSSAI प्रमाणित 

सरसों का तेल खरीदते समय एगमार्क ग्रेड 1 लिखा होना चाहिए। इनमें कम मिलावट की संभावना रहती है। इसके साथ-साथ देश के भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण प्रमाण गुणवत्ता और सुरक्षा का विश्वसनीय मारकर होना चाहिए। इसके डब्बे पर प्रमाणीकरण की हमेशा जांच करनी चाहिए। 

ब्रांड और सुगंध 

अगर आप किसी विश्वसनीय कंपनी से सरसों का तेल खरीदते हैं, तो यह कुछ हद तक सुरक्षित हो सकता है। छोटे और लोकल ब्रांडों के मुकाबले ब्रांड गुणवत्ता और मानकों को नियामक का अनुपालन करने की संभावना अधिक रखते हैं। शुद्ध सरसों का तेल गहरा पीले रंग का और तीखी सुगंध वाला होता है। अगर सुगंध और रंग में कोई मिलावट दिखे तो यह खतरे का संकेत है। 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like