home page

Agriculture News : बिना मिट्टी के उगाई जा सकती जा सकती है यह सब्जियां, जानिए तरीका

Hydroponic System : हाल ही में कृषि क्षेत्र में भी क्रांति आई है। इस प्रक्रिया में, हाइड्रोपोनिक तकनीक नामक एक नई खेती तकनीक का विकास हुआ है। पानी ही इसकी खेती करता है, बिना मिट्टी के। इस आधुनिक खेती में पानी का उपयोग पौधों को पौषक तत्व देता है।

 | 
Agriculture News : बिना मिट्टी के उगाई जा सकती जा सकती है यह सब्जियां, जानिए तरीका

Saral Kisan (Agriculture News) : हाइड्रोपोनिक्स में पौधों को मिट्टी के बिना पानी में पोषण दिया जाता है। यह तकनीक विभिन्न तरह के पानी में पोषण को नियंत्रित करके पौधों को सही मात्रा में पोषण देने के लिए बनाई गई है। हाइड्रोपोनिक्स को वाणिज्यिक कृषि, आधुनिक घरेलू बागवानी और विशेष उद्यानों में प्रयोग किया जाता है।

इसमें पौधों को पर्याप्त पोषण, जल और सही वातावरण मिलता है। इसमें पानी, पोषक तत्वों, और ऑक्सीजन को पौधों के जड़ों तक पहुंचाने के लिए धाराएं या पाइप्स का उपयोग किया जाता है। ज्यादातर सब्जियां और फूल हाइड्रोपोनिक तकनीक से उत्पादित होते हैं। 

बिना मिट्टी के सब्जियां उगाने के कुछ उपाय हैं:

1. विक हाइड्रोपोनिक प्रणाली— इस प्रणाली में, एक धागा या मल माध्यम से पौधों को पानी और पोषक तत्व मिलते हैं। इसकी लागत काफी कम है।
   
2. धारा प्रणाली— इस हाइड्रोपोनिक प्रक्रिया में पौधे पानी की धारा में खड़े हैं। वहीं पानी में पोधे के विकास के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व मौजूद हैं।

3. द्राव प्रणाली— इस प्रणाली में पौधों के नीचे बूंद-बूंद पानी और पोषक तत्व टपकाए जाते हैं।

इस तकनीक में इन बातों का ध्यान रखें

पोषण प्रणाली— हाइड्रोपोनिक्स में पौधों को पोषित करने का एक महत्वपूर्ण तरीका निर्धारित करना होता है, जैसे कि विशेष पानी में सही पोषक तत्वों का मिश्रण बनाना।

प्रणाली डिज़ाइन— हाइड्रोपोनिक्स में संयंत्रों को रखने के लिए एक उपयुक्त प्रणाली चुनना महत्वपूर्ण है। प्लास्टिक नेटपॉट्स या कोई अन्य सामग्री इसमें प्रयोग की जाती है।

जल नियंत्रण— हाइड्रोपोनिक्स में पानी का नियंत्रण बहुत जरूरी है। पानी की गुणवत्ता, pH स्तर और पोषक तत्वों की मात्रा सही ढंग से काम करती हैं। पौधे तभी ग्रो होते हैं।

नियंत्रण प्रक्रियाओं पर— हाइड्रोपोनिक्स में, प्रकाश, तापमान और हवा की गुणवत्ता भी महत्वपूर्ण हैं।

उपज— विशेष उत्पादों के लिए विशेष प्रयास किए जा सकते हैं, जैसे पौधों की वृद्धि और विकास की स्थिति पर ध्यान देना।

Also Read : Petrol Diesel Price Today: इस शहर में पेट्रोल ₹82.42 और डीजल ₹78, जानिए आपकी सिटी का रेट

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like