home page

पुणे मंडी में इस गेहूं का भाव पंहुचा 6 हजार रुपए किवंटल, किसान नज़र आए ख़ुश

पुणे की मंडी में शरबती गेहूं ₹6000 प्रति क्विंटल पहुंच गया है. अन्य गेहूं के मुकाबले इसकी गुणवत्ता बेहतर होती है.
 | 
पुणे मंडी में इस गेहूं का भाव पंहुचा 6 हजार रुपए किवंटल, किसानों नज़र आए ख़ुश

Pune : महाराष्ट्र की कई मंडियो में सोयाबीन और कॉटन की कीमत किसानों को एमएसपी से नीचे मिल रही है. परंतु इसके अलावा गेहूं की रेट में बढ़ोतरी दर्ज हुई है. प्रदेश की ज्यादातर मंडियो और बाजारों में गेहूं के रेट एमएसपी से ज्यादा मिल रहे हैं. यह सभी भाव गेहूं की वैरायटी के हिसाब से बढ़े हैं. पुणे की मंडी में शरबती गेहूं का उच्चतम रेट 6000 रुपए प्रति क्विंटल तक चला गया है.

महाराष्ट्र के एग्रीकल्चर मार्केटिंग बोर्ड के मुताबिक, 6 जून को सिर्फ 6 मंडियो में गेहूं की आवक दर्ज हुई. जिसमें पुणे की मंडी में गेहूं की कीमत सबसे ज्यादा रही. बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक, 410 क्विंटल आवक हुई और न्यूनतम दाम तथा 4000 और औसतन गेहूं का भाव 5000 रुपए प्रति क्विंटल रहा. इसके अलावा सोलापुर मंडी में शरबती गेहूं का अधिकतम भाव 3990 रुपए प्रति क्विंटल रहा.

शरबती गेहूं में बेहतर गुणवत्ता

दूसरी वैरायटी के मुकाबले शरबती गेहूं का भाव ज्यादा होने के कई कारण है. अन्य गेहूं के मुकाबले इसकी गुणवत्ता बेहतर होती है. महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा लोग शरबती गेहूं की रोटी खाना पसंद करते हैं. गेहूं की इस वैरायटी को जीआई टैग भी मिला हुआ है. अपनी एक अलग तरह की पौष्टिकता, चमक और स्वाद की वजह से महाराष्ट्र के लोग ज्यादा इसकी रोटी खाना पसंद करते हैं.

मध्य प्रदेश के सीहोर और उसके आसपास के जिलों में इस गेहूं की बड़े पैमाने पर खेती होती है. महाराष्ट्र का शरबती गेहूं बेहतर गुणवत्ता होने के कारण यह महंगा बिकता है. परंतु महाराष्ट्र का गेहूं उत्पादन में योगदान सिर्फ दो प्रतिशत है. शरबती के अलावा दूसरी वैरायटी की सबसे ज्यादा खेती पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में बड़े स्तर पर की जाती है. महाराष्ट्र के किसान ज्यादातर कपास सोयाबीन, अंगूर और गन्ने की खेती पर ध्यान लगाते हैं.

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like