home page

Buffalo Farming: इस नस्ल की भैंस से बदल जाएगी किसानों की तकदीर, दूध की बहने लगेगी नदियां

आजकल किसान खेती के साथ-साथ पशुपालन से भी तगड़ा मुनाफा कमा रहे हैं। जैसा कि हम जानते हैं भारत में दुनिया से सबसे अधिक भैंसें पाई जाती है।
 | 
Buffalo Farming: इस नस्ल की भैंस से बदल जाएगी किसानों की तकदीर, दूध की बहने लगेगी नदियां

Buffalo Farming: भारतीय किसान प्राचीन काल से खेती के साथ-साथ पशुपालन कर रहे हैं। भारत में सबसे अधिक भैंसें से पाई जाती है। भारत में दूध के कुल उत्पादन का करीबन 55% यानी की 20 मिलियन दूध भैंस पालकर प्राप्त किया जाता है।

पैसों के दूध में हाई क्वालिटी का फैट पाया जाता है। वहीं हाई फैट वाले दूध अधिक महंगा है। जो किसानों को अधिक लाभ देता है। आप भदावरी नस्ल की भैंस पाल सकते हैं अगर आप अधिक दूध देना चाहते हैं। इस नस्ल की भैंस का दूध 14 से 18 प्रतिशत वसा से भरा होता है। आइए जानें इस नस्ल में क्या खास है।

भदावरी भैंस आज़ादी से पहले की नस्ल है। इस नस्ल का मूल आगरा, इटावा, भिंड, मुरैना और ग्वालियर जिलों का एक छोटा सा राज्य था जिसे भदावर कहा जाता था। यह भैंस नस्ल माना जाता है कि केवल भदावर राज्य में पैदा हुई, इसलिए इसका नाम भदावरी है।

इन क्षेत्रों में यह नस्ल पाई जाती है

वर्तमान में, मध्य प्रदेश के भिंड, मुरैना, ग्वालियर और उत्तर प्रदेश के आगरा, इटावा, औरैया और जालौन के कुछ क्षेत्रों में भदावरी भैंस पाई जाती है। अब किसान भदावरी भैंस को पालना चाहते हैं?

तो उसकी क्या विशेषताएं हैं? भदावरी भैंस और मुर्रा भैंस में क्या फर्क है? एक दिन में भदावरी भैंस कितने लीटर दूध देती है? क्या आप जानते हैं कि भदावरी भैंस कहां रखी जाती है? नस्ल? क्या कीमत है और इसे कहाँ से खरीदें?

आगरा जिले के अधिकांश भदावर गांव भदावरी नस्ल की भैंसें पालते हैं। यमुना की चंबल घाटी के शहरों इटावा और ग्वालियर में भी यह भैंसा पाया जाता है। लाल भूरा रंग इस भैंसे का मुख्य लक्षण है।

भदावरी भैंस का आकार मध्यम होता है, आगे से पतला और पीछे से चौड़ा होता है। सींग चपटे, मोटे होते हैं और पीछे और अंदर की ओर मुड़े हुए हैं। इसके नर और मादा पशुओं का वजन 400 से 500 किलोग्राम और 350 से 400 किलोग्राम होता है।

इस नस्ल के विशिष्ट लक्षण क्या हैं?

भदावरी नस्ल की भैंसों की सबसे अच्छी बात यह है कि वे किसी भी तरह की जलवायु में रह सकते हैं। इसलिए इस नस्ल को हर राज्य में चाहिए। यह नस्ल की भैंस को पालने से पशुपालक दूध से अधिक घी या वसा प्राप्त कर सकते हैं।

यह कम भोजन में भी अच्छा दूध दे सकता है। अन्य भैंसों की तुलना में इसके भोजन पर बहुत कम पैसे खर्च होते हैं। भदावरी पशु रोग प्रतिरोधक हैं। इस भैंस की प्रमुख विशेषताओं में से एक है कि वह कठिन से कठिन परिस्थितियों में जीवित रह सकता है।

भदावरी नस्ल की भैंसों की सबसे अच्छी बात यह है कि वे किसी भी तरह की जलवायु में रह सकते हैं। इसलिए इस नस्ल को हर राज्य में चाहिए। यदि कोई पशुपालक दूध से अधिक घी या वसा चाहता है

इसलिए वह इस नस्ल की भैंस को पाल सकता है। यह कम भोजन में भी अच्छा दूध दे सकता है। अन्य भैंसों की तुलना में इसके भोजन पर बहुत कम पैसे खर्च होते हैं। भदावरी पशु रोग प्रतिरोधक हैं। इस भैंस की प्रमुख विशेषताओं में से एक है कि वह कठिन से कठिन परिस्थितियों में जीवित रह सकता है।

दैनिक रूप से यह नस्ल कितने लीटर दूध देती है?

जब बात दूध की आती है, तो भदावरी भैंस प्रतिदिन छह से आठ लीटर दूध दे सकती है। गुणवत्तापूर्ण घी पैदा करने वाली भदावरी भैंस को मुर्रा भैंस से अलग करने वाली एक बात यह है कि भदावरी भैंस मुर्रा भैंस की तुलना में कम दूध देती हैं, लेकिन इस नस्ल की भैंसों का दूध दुनिया में सबसे अधिक वसायुक्त होता है।

भदावरी भैंस का दूध 14 से 18 प्रतिशत वसा से भरता है। यह भैंस औसतन प्रति ब्यांत 1300 से 1500 लीटर दूध देती है। यद्यपि, उचित आहार से दूध देने की क्षमता और भी बढ़ जाती है।

भदवरी भैंस की देखभाल कैसे करें?

भदावरी भैंस को पालना बहुत आसान है। आपको बता दें कि भदावरी भैंस छोटे और हल्के होते हैं। भूमिहीन किसान और गरीब पशुपालक भी भदावरी भैंस को कम संसाधनों में आसानी से पाल सकते हैं।

भदावरी भैंस कम खाना खाकर भी अच्छा दूध देती हैं और किसी भी जलवायु में आसानी से ढल जाती हैं। हालाँकि, पशुपालन के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसे कि पशुओं के रहने का स्थान अच्छा हवादार होना चाहिए, पशु शेड साफ होना चाहिए और पशुओं को पर्याप्त भोजन और पानी मिलना चाहिए.

घूमने यहां जाइए हसीन वादियों में हैं सुकून के पल, भूल जायेगे आप शिमला-मनाली जाना


 

Around The Web

Latest News

Featured

You May Like